Skip to main content

"मेरा बूथ सबसे मजबूत" कार्यक्रम में प्रधानमंत्री मोदी ने लाइव संबोधन के दौरान लखनऊ की रीना चौरसिया से किया संवाद

 लखनऊ /संवाददाता

.........................................



यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 'मेरा बूथ, सबसे मजबूत' कार्यक्रम के माध्यम से वर्चुअल रूप से देश के 10 लाख बूथ अध्यक्षों व कार्यकर्ताओं को संबोधित किया इस दौरान कार्यकर्ताओं द्वारा पूछे गए प्रश्नों के उत्तर भी दिए।
प्रधानमंत्री जी के कार्यक्रम को वर्चुअल रूप में लखनऊ महानगर के सभी मंडलों में बड़ी एल ई डी स्क्रीन लगाकर पार्टी पदाधिकारियों व कार्यकर्ताओं के साथ देखा गया। 
लखनऊ महानगर उत्तर विधानसभा के डालीगंज क्षेत्र में महाराजा अग्रसेन शक्ति केंद्र के  अंतर्गत बूथ संख्या 158 पर उमराव धर्मशाला में उमराव धर्मशाला में 


 प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह ने पूर्व उप मुख्यमंत्री  डॉ. दिनेश शर्मा , क्षेत्रीय अध्यक्ष कमलेश मिश्रा, महानगर अध्यक्ष एमएलसी मुकेश शर्मा  विधायक डॉ० नीरज बोरा, भाजपा नेता नीरज सिंह, मनीष दीक्षित, राम अवतार कनौजिया प्रवीण गर्ग ,वरिष्ठ जनों और कार्यकर्ताओं के साथ सुना।


प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह ने कार्यक्रम के उपरांत मीडिया को संबोधित करते हुए कहा कि यशस्वी प्रधानमंत्री ने आज भारतीय जनता पार्टी के 10 लाख से अधिक कर्मठ सील कार्यकर्ताओं को वर्चुअल रुप से संबोधित किया। प्रधानमंत्री जी का प्रेरणादाई संबोधन विकसित भारत के लिए उनके संकल्प को और सशक्त करेगा और भारतीय जनता पार्टी के करोड़ों कार्यकर्ताओं में उत्साह की वृद्धि करेगा।
 *कार्यक्रम के दौरान लखनऊ महानगर महिला मोर्चा महामंत्री  रीना चौरसिया को भी प्रधानमंत्री जी से प्रश्नोत्तर का अवसर प्राप्त हुआ।


रीना चौरसिया ने प्रधानमंत्री से पूछा कि "प्रधानमंत्री जी,वोटबैंक की राजनीति ने देश का बहुत नुकसान किया है। हम देखते थे कि पहले ये लोग तीन तलाक का विरोध करते थे अब यूनिफॉर्म सिविल कोड का विरोध कर रहे हैं। हमारे बूथ पर जो मुसलमान भाई बहन हैं इससे भ्रमित हो जाते हैं। हम उन्हें क्या कहें
प्रधानमंत्री मोदी ने उत्तर में कहा कि " आप जमीन से जुड़ी हुई कार्यकर्ता है लोगों के बीच रहकर के लोगों के सुख-दुख को जानने वाली बहन है आप इसलिए पहले मैं आपको बधाई देता हूं मुझे लगता है कि हमें थोड़ा अध्ययन करना चाहिए कि जो भी तीन तलाक के पक्ष में बात करते हैं वकालत करते हैं वोट बैंक के ऐसे भूखे लोग मुस्लिम बेटियों के साथ बहुत बड़ा अन्याय कर रहे हैं।


तीन तलाक के लिए जो नुकसान होता है वह सिर्फ बेटियों को होता है ऐसा नहीं है उसका दायरा उससे भी बड़ा है आप सोचिए बहुत अरमानों के साथ बेटी को शादी करके ससुराल भेजा हो और आठ 10 साल के बाद तीन तलाक कहकर कोई उसको निकाल दे तो उस मां-बाप का क्या होगा जिसके घर में बेटी वापस आती है उस भाई का क्या होगा वह भाई पिता सब उस बेटी की चिंता में कितने दुखी हो जाते हैं इसलिए तीन तलाक से सिर्फ बेटियों को ही नहीं अन्याय होता है बल्कि पूरे परिवार तबाह हो जाते हैं माता-पिता भाई सब दुखी हो जाते हैं और दुनिया के अनेक मुस्लिम देश तीन तलाक खत्म नहीं करता मुस्लिम बहुल देश जहां पूरी तरह इस्लाम राज्य है वहां भी तीन तलाक बंद कर दिया गया है मैं इजिप्ट मिश्र में था वहां 90% से ज्यादा मुसलमान समाज है और 80 90 साल पहले तीन तलाक की प्रथा को समाप्त कर दिया गया था। हम से 90 साल पहले। अगर तीन तलाक इस्लाम का जरूरी अंग है तो पाकिस्तान में क्यों नहीं होता, तो इंडोनेशिया में क्यों नहीं होता, तो कतर, जॉर्डन, सीरिया, बांग्लादेश इस सारे मुस्लिम देशों में भी क्यों बंद किया गया, मैं समझता हूं मुसलमान बेटियों पर तीन तलाक का फंदा लटका कर कुछ लोग उन पर हमेशा अत्याचार करने की खुली छूट चाहते हैं यही लोग तीन तलाक का समर्थन भी करते हैं और मैं जानता हूं इसलिए ही मेरी मुस्लिम बहनें बेटियां मैं जब भी जहां जाता हूं भाजपा के साथ खड़ी रहती हैं मोदी के साथ खड़ी रहती हैं । साथियों भारत के मुसलमान भाई बहनों को भी यह समझना होगा कि कौन से राजनीतिक दल उन्हें भड़का करके उनका फायदा लेने के लिए उनको बर्बाद कर रहे हैं आजकल हम देख रहे हैं कि यूनिफॉर्म सिविल कोर्ट के नाम पर ऐसे लोगों को भड़काने का काम हो रहा है आप मुझे बताइए कि एक घर में परिवार के एक सदस्य के लिए एक कानून हो दूसरे सदस्य के लिए दूसरा कानून हो तो क्या वह घर चल पाएगा क्या फिर ऐसी दोहरी व्यवस्था से देश कैसे चल पाएगा हमें याद रखना है कि भारत के संविधान में भी नागरिकों के समान अधिकार की बात कही गई है साथियों यह लोग हम पर आरोप लगाते हैं लेकिन सच यह है कि यही लोग मुसलमान- मुसलमान करते हैं अगर यह मुसलमानों के सही मायने में हितैषी होते तो अधिकांश परिवार मेरे मुस्लिम भाई बहन शिक्षा में पीछे ना रहते, रोजगार में पीछे ना, मुसीबत की जिंदगी जीने के लिए मजबूर ना रहते हैं ऑल सुप्रीम कोर्ट ने बार-बार कहा है कॉमन सिविल कोड लाओ लेकिन वोट बैंक के भूखे लोग... 



अगर आप हमारे मुसलमान भाई बहनों की ओर देखेंगे तो आप देखेंगे कि पसमांदा मुसलमान भाई बहन वोट बैंक की राजनीति करने वालों ने और मंदा मुसलमान भाई बहनों का तो जीना भी मुश्किल कर रखा है वह तबाह हो गए हैं उनको कोई फायदा नहीं मिला है कष्ट में गुजारा करते हैं उनकी आवाज सुनने के लिए कोई तैयार नहीं है उनके ही धर्म के 1 वर्ग हैं पसमंदा मुसलमानों का इतना शोषण किया है लेकिन इस पर देश में कभी भी चर्चा नहीं हुई। जो पसमांदा मुसलमान हैं उन्हें आज भी बराबरी का हक नहीं मिलता उन्हें नीचा और अछूत समझा जाता है इसी समाज में मैं मुसलमान समाज की बात कर रहा हूं मुसलमान समाज में जो पसमांदा भाई-बहन हैं और जो पिछले हुए हैं मैं उनकी बात करता हूं जो मोची होते हैं, मिस्त्री होते हैं, धोबी होते हैं भटियारा होते हैं, मदारी, जुलाहा जैसी अनेकों अनेक के साथ भेदभाव होता है और उसकी कई पीढ़ियों को यह भेदभाव भुगतना पड़ा लेकिन भारतीय जनता पार्टी सबका साथ सबका विकास के अनुसार कार्य कर रही है आयुष्मान योजना में सबको स्वास्थ्य का हक दिया है उन्हें भी अपना पक्का घर मिल रहा है बीजेपी के कार्यकर्ता विभिन्न तथ्यों और तर्कों के साथ मुसलमान भाई बहनों के पास जाएंगे तो उन्हें ज्यादा बेहतर तरीके से समझाएंगे और उनका भ्रम भी दूर होगा और इसलिए आपने जो सवाल पूछा है बड़े विश्वास के साथ जाइए और उनके दुख दूर करने में उनकी कठिनाइयों को दूर करने में एक कार्यकर्ता के नाते समानता के भाव से प्रयास करिए वह जरूर आपकी बात मान लेंगे और समझेंगे भी।
मीडिया प्रभारी प्रवीण गर्ग ने बताया कि लखनऊ महानगर महामंत्री रीना चौरसिया ने "सेल्फी विद लाभार्थी"कान में 1006424 लाभार्थियों के साथ फोटो खींचकर नमो ऐप पर अपलोड करी है। जिससे राष्ट्रीय स्तर पर महिला मोर्चा द्वारा चल रहे सेल्फी विद लाभार्थी अभियान में देश में पहला स्थान प्राप्त करने के कारण प्रधानमंत्री मोदी जी से संवाद का अवसर प्राप्त हुआ। रीना चौरसिया विवेकानंद पुरी वार्ड की बूथ संख्या 296 की बूथ अध्यक्षा भी है।
लखनऊ महानगर में प्रदेश कार्यालय हॉल, शकुंतला मैरिज लॉन कल्याण पुरम, भूतनाथ मंदिर, परिजात पैलेस इंदिरा नगर, रामलीला मैदान, कल्याण मंडप मुसाहिबगंज, उत्तर विधान सभा पूर्निया कार्यालय, रघुवर पैलेस, इंजीनियरिंग कॉलेज, राम जानकी गेस्ट हाउस मोहान रोड, सेंट जोसेफ इंटर कॉलेज राजाजीपुरम, यूनिवर्सल पैलेस पारा, प्रकाश बाल विद्या मंदिर गोमती नगर, वैदिक संस्थान राजा बाजार, महाकाल मंदिर राजेंद्र नगर, मंगला देवी स्कूल सदर बाजार, जलसा लान आदि स्थानों पर मंडल स्तर पर कार्यक्रम को बड़ी स्क्रीन पर देखा गया जिसमें राज्यसभा सांसद बृज लाल, प्रदेश महामंत्री गोविंद नारायण, संजय राय, प्रदेश उपाध्यक्ष विजय बहादुर पाठक, प्रदेश उपाध्यक्ष एमएलसी धर्मेंद्र सिंह, विधायक शलभ मणि त्रिपाठी, एमएलसी लाल जी निर्मल, सुधीर हलवासिया, नानक चंद लखवानी, महामंत्री त्रिलोक सिंह अधिकारी, पुष्कर शुक्ला,  उपाध्यक्ष विवेक सिंह तोमर, सौरभ बाल्मीकि, आनंद द्विवेदी, अशोक तिवारी ने भी कार्यकर्ताओं के साथ लाइव संबोधन सुना।

Comments

Popular posts from this blog

मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ का प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव सहकारिता भवन में सकुशल संपन्न हुआ

 संवाददाता लखनऊ l मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० (सम्बद्ध उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारी महासंघ) का  प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव आज  सहकारिता भवन सभागार , लखनऊ में सकुशल संपन्न हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  केंद्रीय राज्य मंत्री ( कौशल किशोर) आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय भारत सरकार रहे। विशिष्ठ अतिथि के रूप में उ०प्र० राज्य कर्मचारी महासंघ एवं उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  एस०पी० सिंह,  कमलेश मिश्रा,  नरेन्द्र प्रताप सिंह, उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  राम विरज रावत, पूर्णिमा सिन्हा उर्फ़ पूनम सिन्हा (फाउंडर ऑफ़ परिषद् ऑफ़ सहकारिता बैंक), प्रांतीय संरक्षक, मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० की  प्रभा सिंह उपस्थित रहे। इस अवसर पर उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के  दिवाकर सिंह, प्रांतीय अध्यक्ष एवं कनौजिया विनोद बुद्धिराम, कार्यकारी प्रांतीय अध्यक्ष,  चुनाव अधिकारियों की देख-रेख में चुनाव सकुशल संपन्न कराया गया । इस चुनाव में “स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग” क

सरकार ने शीघ्र मांगे नहीं मानी तो पेंशनर स्थगित आंदोलन पुनः चालू करेंगे

 ...   संवाददाता। लखनऊ  ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति और स्टेफको के संयुक्त तत्वाधान में आज एक सभा आवश्यक वस्तु निगम के गोखले मार्ग स्थित मुख्यालय में प्रांतीय महामंत्री राजशेखर नागर की अध्यक्षता में संपन्न हुई। जिसमें पिछले दिनों दिल्ली के रामलीला मैदान में पेंशनरों की रैली और जंतर मंतर पर अनशन के दौरान श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव द्वारा समिति के राष्ट्रीय नेताओं को बुलाकर वार्ता करने एवं आश्वासन देने के बाद आंदोलन स्थगित रखने की जानकारी दी गई।सभा में वक्ताओं ने कहा कि हमें अब सरकार के कोरे आश्वासनों पर विश्वास नहीं करना चाहिए और अगर सरकार शीघ्र ही हमारी मांगे नहीं मानती है तो स्थगित आंदोलन को पुनः और बड़े स्तर पर जारी करना चाहिए।तभी सरकार कोई ठोस कार्रवाई करेगी।समिति के राष्ट्रीय सचिव राजीव भटनागर ने बताया कि श्रम सचिव के साथ शीघ्र एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित करने का प्रयास हो रहा है जिसमें न्यूनतम पेंशन बढ़ाने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाएगा।अनेक वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों द्वारा भी समिति के नेताओं से वार्ता कर उनकी मांगों का समर

पेंशनरों ने मुख्यमंत्री से पेंशन बढ़ाने और बकाया एरियर्स के भुगतान कराने की माँग की

 लखनऊ/संवाददाता   10 जुलाई। ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति के महामंत्री राज शेखर नागर के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के  जनता  दर्शन  में   ईपीएस-95  पेंशनरों की   न्यूनतम पेंशन बढ़वाने ,फ्री मेडिकल सुविधा दिलवाने की माँग की। इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश  के अधिकांश निगमों में छठा  वेतनमान का  एरियर का भुगतान नही हुआ है जबकि  पेंशनरों को बहुत कम पेंशन मिलने से आर्थिक बदहाली झेल  रहे हैं।  इसलिए  मुख्यमंत्री से सभी निगमों के  पेंशनरों  को छठे वेतनमान के बकाया एरियर्स का  भुगतान करने के आदेश निर्गत करने की भी माँग की गई। आवश्यक वस्तु निगम में पेंशनरों की  महासमिति की  बैठक मे  निर्णय लिया गया कि  यदि  बकाया एरियर्स का भुगतान शीघ्र नहीं किया गया तो निगम के सेवानिवृत्त कर्मी   अनशन पर बैठेंगे।       महासमिति की बैठक में हबीब खान, राजीव  भटनागर, पी के  श्रीवास्तव, फ्रेडरिक क्रूज,एन सी सक्सेना,राजीव पांडे, सतीश श्रीवास्तव  पीताम्बर भट्ट उपस्थिति रहे।  राजीव भटनागर  मुख्य समन्वयक  उत्तर प्रदेश।