Skip to main content

भाकपा माले ने पार्टी के राष्ट्रव्यापी आवाहन पर लखनऊ में परिवर्तन चौक से जिलाधिकारी कार्यालय की ओर किया मार्च

 संवाददाता:लखनऊ




 लखनऊ :21जुलाई 2023 मणिपुर में नफरती भीड़ द्वारा आदिवासी कुकी समुदाय की दो महिलाओं के साथ यौन उत्पीड़न की भयावह घटनाओं और मणिपुर में जारी हिंसा के खिलाफ आज भाकपा माले ने पार्टी के राष्ट्रव्यापी आवाहन पर लखनऊ में परिवर्तन चौक से जिलाधिकारी कार्यालय की ओर मार्च किया और महामहिम राष्ट्रपति को सम्बोधित तीन सूत्रीय ज्ञापन इंस्पेक्टर कैसरबाग को सौंपा।पूर्व घोषित कार्यक्रम के तहत आज अपराह्न 1.00बजे भाकपा (माले) के जिला प्रभारी का0रमेश सिंह सेंगर के नेतृत्व में बड़ी  संख्या में छात्र, युवा,महिला और मजदूर कार्यकर्ता अपने हाथों में लाल झंडा बैनर और प्लेकार्ड लेकर परिवर्तन चौक पर इकट्ठा हुए और नारे बाजी करते हुए सभा की। कार्यकर्ता नारे लगा रहे थे: मणिपुर की घटना के लिए जिम्मेदार गृहमंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री एन वीरेन सिंह इस्तीफा दो!, मणिपुर में यौन हिंसा करनें वालों की शिनाख्त कर उन्हें तुरंत गिरफ्तार करो!, मणिपुर में शान्ति बहाल करो!, मोदी सरकार की नफरत और विभाजन की राजनीति मुर्दा बाद!, मणिपुर की घटना के लिए पीएम मोदी जबाब दो! सभा को सम्बोधित करते हुए भाकपा (माले) जिला प्रभारी का0रमेश सिंह सेंगर ने कहा कि मणिपुर में नफरती भीड़ द्वारा आदिवासी कुकी समुदाय की दो महिलाओं के साथ यौन उत्पीड़न की भयावह घटना ने पूरे देश को झकझोर दिया है।कल मणिपुर में दासियों हजार की संख्या में महिलाओं और पुरुषों ने काले कपड़े पहनकर विरोध प्रदर्शन किया और पूरे देश में लोग सड़कों पर उतर आए तब जाकर प्रधानमंत्री मोदी की कानों में जूं रेंगा। उन्होंने कहा कि पिछले ढाई महीनों से  मणिपुर में हिंसा होती रही, सैकड़ों लोग मारे जाते रहे,भारी संख्या में चर्च जला दिए गए और जनता व विपक्षी दलों की आवाज की अनसुनी की जाती रही और प्रधानमंत्री मोदी चुप रहे। गृहमंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने हिंसा की रोकथाम के लिए कोई भी कदम नहीं उठाये।
इस पूरी घटना ने पूरे देश को शर्मशार किया है। इसके लिए सीधे तौर पर गृहमंत्री अमित शाह और मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ज़िम्मेदार है। इसलिए गृहमंत्री अमित शाह और मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह को तुरंत अपने पद से त्यागपत्र दे देना चाहिए।उन्होंने कहा कि मणिपुर की घटनाओं और पिछले दिनों महिला पहलवानों के मामले में मोदी सरकार की भूमिका ने उनके महिला विरोधी चरित्र का पर्दाफाश कर दिया है। उन्होंने कहा कि मणिपुर की पहाड़ियों में मौजूद खनिज को कारपोरेट को सौप देने के लिए  मोदी-अमित शाह की राजनीति ने वहां कुकी और मैतेई समुदाय के बीच कभी एक न होने देने का काम किया है। उन्होंने कहा कि एक देश मंहगाई, बेरोजगारी की मार झेल रहा है तो दूसरी और मोदी सरकार की नफरत और हिंसा की राजनीति देश को तबाही की ओर ले जा रही है इसलिए अब भाजपा मुक्त भारत के लिए संघर्ष तेज करना होगा। उन्होंने मांग की कि मणिपुर में घटी घटना की उच्च स्तरीय जांच कराई जाए, सभी हमलावरों को तुरंत चिन्हित करके गिरफ्तार किया जाए और उनके विरुद्ध कड़ी से कड़ी कार्यवाही की जाए।पिछले डेढ़ महीने से ज्यादा समय से जारी हिंसा की सम्पूर्ण घटनाओं की जांच कराई जाए और हिंसा पर तत्काल रोक लगाई जाए।इस तरह की घटनाओं की जांच के लिए नारीवादियों और वकीलों की एस सी निगरानी टीम भेजी जाए। सभा को आइसा की अंजलि,सनातन,ऐक्टू के जिला मंत्री का0 कुमार मधुसूदन मगन, इनौस के नेता का0 राजीव गुप्ता,ऐपवा की नेत्री का0 कमला गौतम ने सम्बोधित किया।कार्यक्रम में आइसा के राज्य सचिव का0 शिवम्,का0अनिल कुमार,का0 ओम प्रकाश राज,का0 नीरज कनौजिया,का0 प्राची,का0 शशांक,का0अदनान,का0सुकीर्ती,का0अमन, क्रांति,का0 मंजू गौतम,का0कमलेश गौतम,का0 नौमी लाल,का0 डोरीलाल आदि लोग मौजूद रहे।

Comments

Popular posts from this blog

मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ का प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव सहकारिता भवन में सकुशल संपन्न हुआ

 संवाददाता लखनऊ l मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० (सम्बद्ध उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारी महासंघ) का  प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव आज  सहकारिता भवन सभागार , लखनऊ में सकुशल संपन्न हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  केंद्रीय राज्य मंत्री ( कौशल किशोर) आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय भारत सरकार रहे। विशिष्ठ अतिथि के रूप में उ०प्र० राज्य कर्मचारी महासंघ एवं उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  एस०पी० सिंह,  कमलेश मिश्रा,  नरेन्द्र प्रताप सिंह, उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  राम विरज रावत, पूर्णिमा सिन्हा उर्फ़ पूनम सिन्हा (फाउंडर ऑफ़ परिषद् ऑफ़ सहकारिता बैंक), प्रांतीय संरक्षक, मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० की  प्रभा सिंह उपस्थित रहे। इस अवसर पर उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के  दिवाकर सिंह, प्रांतीय अध्यक्ष एवं कनौजिया विनोद बुद्धिराम, कार्यकारी प्रांतीय अध्यक्ष,  चुनाव अधिकारियों की देख-रेख में चुनाव सकुशल संपन्न कराया गया । इस चुनाव में “स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग” क

सरकार ने शीघ्र मांगे नहीं मानी तो पेंशनर स्थगित आंदोलन पुनः चालू करेंगे

 ...   संवाददाता। लखनऊ  ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति और स्टेफको के संयुक्त तत्वाधान में आज एक सभा आवश्यक वस्तु निगम के गोखले मार्ग स्थित मुख्यालय में प्रांतीय महामंत्री राजशेखर नागर की अध्यक्षता में संपन्न हुई। जिसमें पिछले दिनों दिल्ली के रामलीला मैदान में पेंशनरों की रैली और जंतर मंतर पर अनशन के दौरान श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव द्वारा समिति के राष्ट्रीय नेताओं को बुलाकर वार्ता करने एवं आश्वासन देने के बाद आंदोलन स्थगित रखने की जानकारी दी गई।सभा में वक्ताओं ने कहा कि हमें अब सरकार के कोरे आश्वासनों पर विश्वास नहीं करना चाहिए और अगर सरकार शीघ्र ही हमारी मांगे नहीं मानती है तो स्थगित आंदोलन को पुनः और बड़े स्तर पर जारी करना चाहिए।तभी सरकार कोई ठोस कार्रवाई करेगी।समिति के राष्ट्रीय सचिव राजीव भटनागर ने बताया कि श्रम सचिव के साथ शीघ्र एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित करने का प्रयास हो रहा है जिसमें न्यूनतम पेंशन बढ़ाने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाएगा।अनेक वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों द्वारा भी समिति के नेताओं से वार्ता कर उनकी मांगों का समर

पेंशनरों ने मुख्यमंत्री से पेंशन बढ़ाने और बकाया एरियर्स के भुगतान कराने की माँग की

 लखनऊ/संवाददाता   10 जुलाई। ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति के महामंत्री राज शेखर नागर के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के  जनता  दर्शन  में   ईपीएस-95  पेंशनरों की   न्यूनतम पेंशन बढ़वाने ,फ्री मेडिकल सुविधा दिलवाने की माँग की। इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश  के अधिकांश निगमों में छठा  वेतनमान का  एरियर का भुगतान नही हुआ है जबकि  पेंशनरों को बहुत कम पेंशन मिलने से आर्थिक बदहाली झेल  रहे हैं।  इसलिए  मुख्यमंत्री से सभी निगमों के  पेंशनरों  को छठे वेतनमान के बकाया एरियर्स का  भुगतान करने के आदेश निर्गत करने की भी माँग की गई। आवश्यक वस्तु निगम में पेंशनरों की  महासमिति की  बैठक मे  निर्णय लिया गया कि  यदि  बकाया एरियर्स का भुगतान शीघ्र नहीं किया गया तो निगम के सेवानिवृत्त कर्मी   अनशन पर बैठेंगे।       महासमिति की बैठक में हबीब खान, राजीव  भटनागर, पी के  श्रीवास्तव, फ्रेडरिक क्रूज,एन सी सक्सेना,राजीव पांडे, सतीश श्रीवास्तव  पीताम्बर भट्ट उपस्थिति रहे।  राजीव भटनागर  मुख्य समन्वयक  उत्तर प्रदेश।