Skip to main content

पसमांदा मुस्लिम समाज की समस्याओं को लेकर पसमांदा मुस्लिम समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व मंत्री अनीस मंसूरी ने की प्रेस वार्ता

 लखनऊ ;।। संवाददाता; 


पसमांदा मुस्लिम समाज के राष्ट्रीय अध्यक्ष पूर्व मंत्री अनीस मंसूरी ने पसमांदा मुस्लिम समाज की समस्याओं को लेकर कहा कि  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हैदराबाद की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक 03 जुलाई, 2022 में पसमांदा मुसलमानों की बदहाली पर चिंता जताई थी मंच पर विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्री सहित पार्टी के वरिष्ठ नेतागण मौजूद थे प्रधानमंत्री ने पसमांदा मुसलमानों के दर्द का अध्यन किया और महसूस किया तथा इस पर काम करने के लिए पार्टी के नेताओं को पसमांदा मुसलमानों को उन्हें देश की मुख्यधारा से जोड़ने की बात कही।
आज एक साल पूरा हो चुका है लेकिन प्रधानमंत्री ने अभी तक पसमांदा मुसलमानों की बदहाली दूर करने के लिए कोई ठोस कार्य योजना नहीं बनाई है। लगातार अपने भाषणों में पसमांदा मुसलमानों की बदहाली पर चिंता जताते हैं यदि सही मायने में प्रधानमंत्री उनकी बदहाली को दूर करने के लिए फिक्र मंद हैं तो उन्हें ईमानदारी से ठोस कार्ययोजना 2024 के लोकसभा चुनाव से पहले लागू कर देना चाहिए ताकि पसमांदा मुस्लिम समाज में प्रधानमंत्री  के वादे को लेकर विश्वास पैदा हो।अनीस मंसूरी ने कहा कि जब प्रधानमंत्री ने 85% पसमांदा मुसलमानों की बदहाली को सार्वजनिक रूप से स्वीकार कर लिया है तो इस से पसमांदा मुसलमानों के उत्थान की कार्य योजनाओं को और बल मिलता है। अनीस मंसूरी ने कामन सिविल कोड जैसे संवेदनशील मुद्दे पर प्रधानमंत्री  के बयान पर अपनी प्रतिक्रिया जताते हुऐ कहा कि भारत जैसे देश जहाँ पर विभिन्न धर्मों, सम्प्रदायों व जाति के लोग सदियों से रहते आ रहे हैं जिनके अपने स्वयं धार्मिक व सामाजिक नियम कानून हैं जो कि दूसरे धर्म के लोगों नहीं टकराते हैं ऐसे में कॉमन सिविल कोड लागू करने का क्या औचित्य है कॉमन सिविल कोड लागू करने से पहले विश्व के देशों में क्या प्रभाव पड़ेगा इस पर भी गहरा अध्यन करने की आवश्यकता है प्रधानमंत्री के इस बयान पर कि एक घर में दो कानून नहीं चलेगा अनीस मंसूरी ने कहा कि घर चलाना अलग बात है और देश चलाना अलग मुद्दा है अनीस मंसूरी ने कहा कि पिछले 15 वर्षों से निरंतर प्रदेश व देश के विभिन्न राज्यों में जाकर और प्रदेश के शहरों कस्बों गांव और गलियों में जा जाकर पसमांदा मुसलमानों की बदहाली को देखा है पसमांदा मुसलमानों को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक किया और अपने पत्राचार के माध्यम से समय-समय पर राष्ट्रपति ,प्रधानमंत्री को निरंतर अवगत कराया सिर्फ यही नहीं बल्कि भाजपा आलाकमान के बुलावे पर भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से भी दिल्ली जाकर पसमांदा मुसलमानों की समस्याओं से अवगत कराता रहा हूँ ऐसे ही नहीं प्रधानमंत्री की जुबान पर पसमांदा आया है यह हमारी कड़ी मेहनत का नतीजा है लेकिन अफसोस की बात यह है कि  प्रधानमंत्री ने पसमांदा मुसलमानों की समस्याओं के निराकरण की दिशा में अभी तक कोई ठोस पहल नहीं की है ।इस मौके पर मोहम्मद वसीम राईनी प्रदेश अध्यक्ष, हाजी नसीम अहमद कोषाध्यक्ष,खुर्शीद आलम सलमानी मंडल अध्यक्ष लखनऊ, मौलाना इलियास मंसूरी संगठन मंत्री उपस्थित थे।

Comments

Popular posts from this blog

मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ का प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव सहकारिता भवन में सकुशल संपन्न हुआ

 संवाददाता लखनऊ l मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० (सम्बद्ध उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारी महासंघ) का  प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव आज  सहकारिता भवन सभागार , लखनऊ में सकुशल संपन्न हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  केंद्रीय राज्य मंत्री ( कौशल किशोर) आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय भारत सरकार रहे। विशिष्ठ अतिथि के रूप में उ०प्र० राज्य कर्मचारी महासंघ एवं उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  एस०पी० सिंह,  कमलेश मिश्रा,  नरेन्द्र प्रताप सिंह, उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  राम विरज रावत, पूर्णिमा सिन्हा उर्फ़ पूनम सिन्हा (फाउंडर ऑफ़ परिषद् ऑफ़ सहकारिता बैंक), प्रांतीय संरक्षक, मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० की  प्रभा सिंह उपस्थित रहे। इस अवसर पर उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के  दिवाकर सिंह, प्रांतीय अध्यक्ष एवं कनौजिया विनोद बुद्धिराम, कार्यकारी प्रांतीय अध्यक्ष,  चुनाव अधिकारियों की देख-रेख में चुनाव सकुशल संपन्न कराया गया । इस चुनाव में “स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग” क

सरकार ने शीघ्र मांगे नहीं मानी तो पेंशनर स्थगित आंदोलन पुनः चालू करेंगे

 ...   संवाददाता। लखनऊ  ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति और स्टेफको के संयुक्त तत्वाधान में आज एक सभा आवश्यक वस्तु निगम के गोखले मार्ग स्थित मुख्यालय में प्रांतीय महामंत्री राजशेखर नागर की अध्यक्षता में संपन्न हुई। जिसमें पिछले दिनों दिल्ली के रामलीला मैदान में पेंशनरों की रैली और जंतर मंतर पर अनशन के दौरान श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव द्वारा समिति के राष्ट्रीय नेताओं को बुलाकर वार्ता करने एवं आश्वासन देने के बाद आंदोलन स्थगित रखने की जानकारी दी गई।सभा में वक्ताओं ने कहा कि हमें अब सरकार के कोरे आश्वासनों पर विश्वास नहीं करना चाहिए और अगर सरकार शीघ्र ही हमारी मांगे नहीं मानती है तो स्थगित आंदोलन को पुनः और बड़े स्तर पर जारी करना चाहिए।तभी सरकार कोई ठोस कार्रवाई करेगी।समिति के राष्ट्रीय सचिव राजीव भटनागर ने बताया कि श्रम सचिव के साथ शीघ्र एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित करने का प्रयास हो रहा है जिसमें न्यूनतम पेंशन बढ़ाने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाएगा।अनेक वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों द्वारा भी समिति के नेताओं से वार्ता कर उनकी मांगों का समर

पेंशनरों ने मुख्यमंत्री से पेंशन बढ़ाने और बकाया एरियर्स के भुगतान कराने की माँग की

 लखनऊ/संवाददाता   10 जुलाई। ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति के महामंत्री राज शेखर नागर के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के  जनता  दर्शन  में   ईपीएस-95  पेंशनरों की   न्यूनतम पेंशन बढ़वाने ,फ्री मेडिकल सुविधा दिलवाने की माँग की। इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश  के अधिकांश निगमों में छठा  वेतनमान का  एरियर का भुगतान नही हुआ है जबकि  पेंशनरों को बहुत कम पेंशन मिलने से आर्थिक बदहाली झेल  रहे हैं।  इसलिए  मुख्यमंत्री से सभी निगमों के  पेंशनरों  को छठे वेतनमान के बकाया एरियर्स का  भुगतान करने के आदेश निर्गत करने की भी माँग की गई। आवश्यक वस्तु निगम में पेंशनरों की  महासमिति की  बैठक मे  निर्णय लिया गया कि  यदि  बकाया एरियर्स का भुगतान शीघ्र नहीं किया गया तो निगम के सेवानिवृत्त कर्मी   अनशन पर बैठेंगे।       महासमिति की बैठक में हबीब खान, राजीव  भटनागर, पी के  श्रीवास्तव, फ्रेडरिक क्रूज,एन सी सक्सेना,राजीव पांडे, सतीश श्रीवास्तव  पीताम्बर भट्ट उपस्थिति रहे।  राजीव भटनागर  मुख्य समन्वयक  उत्तर प्रदेश।