Skip to main content

लखनऊ के डिवाइन हॉस्पिटल में किया गया सफलता पूर्वक ऑपरेशन

...
 संवाददाता 
लखनऊ। डॉ. (प्रोफेसर)ए.के. श्रीवास्तव द्वारा, अध्यक्ष,डिवाइन हार्ट एंड मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल,पूर्व प्रोफेसर और एचओडी कार्डियक सर्जरी, एस.जी.पी.जी.आई.एम.एस.

मुंबई में होटल मैनेजमेंट का काम करने वाले 36 वर्षीय पुरुष मिस्टर एक्स को 5 से 6 दिनों से सास फूलने के साथ-साथ सीने में तेज दर्द हो रहा था। उनका निदान एसेन्डीग एओरटा के विच्छेदन के रूप में किया गया था,जो हृदय से निकलने वाली मुख्य रक्त नली है जो हृदय के पूरे रक्त को पूरे शरीर में ले जाती है। विच्छेदन का अर्थ है महाधमनी के भीतर की महाधमनी की भीतरी परत को टुकड़ों में फाड़ना और नीचे कोरोनरी धमनियों की उत्पत्ति तक पूरी लंबाई तक और ऊपर मस्तिष्क और दाहिनी बांह से शुरू होने वाली पहली धमनी के नीचे तक फैला हुआ है। इसके अलावा उन्हें गंभीर महाधमनी पुनरुत्थान भी हो गया, जिसका अर्थ है कि महाधमनी वाल्व अक्षम हो गया और महाधमनी से पूरा रक्त हृदय में वापस आ रहा है। इस गंभीर बीमारी के साथ,हृदय की कार्यक्षमता 36 तक कम हो गई और आकार 52 मिमी से बढ़कर 83 मिमी हो गया। उन्हें एक बहुत बड़े ऑपरेशन की सलाह दी गई,जो चलेगा 8-10 घंटे चलेगा।
मृत्यु सहित 50 से अधिक जोखिम और बहुत महंगा इलाज। चूंकि वह यूपी के बहराईच का रहने वाला है इसलिए उसे लखनऊ ले जाया गया और मुंबई में संचालित होने को तैयार नहीं था।उन्हें डिवाइन हार्ट एंड मल्टीस्पेशलिटी हॉस्पिटल में भर्ती कराया गया। उनका बेन्टाल ऑपरेशन नामक सफल ऑपरेशन हुआ, जिसमें उनकी फटी हुई एसेन्डीग एओरटा को 24 आकार की कृत्रिम ट्यूब से बदल दिया गया और क्षतिग्रस्त महाधमनी वाल्व को 23 आकार की कृत्रिम हृदय वाल्व कृत्रिम अंग से बदल दिया गया।दोनों कोरोनरी धमनियों को कृत्रिम ट्यूब में प्रत्यारोपित किया गया। ट्यूब के दूसरे सिरे को महाधमनी के स्वस्थ भाग से जोड़ा गया। पूरा ऑपरेशन लगातार 8 घंटे तक चला, जहां दिल को पूरी तरह से बंद कर दिया गया था। टैकॉन
100 मिनट तक और लाइफ सपोर्टेड मशीन 240 मिनट तक चली। ऑपरेशन के बाद उनका दिल आगे फिर दूसरे सपोर्ट मशीन IABP द्वारा सहायता प्रदान की गई है (अगले 20 घंटों के लिए। सहायक उपकरण। आमतौर पर, इस प्रकार के ऑपरेशन में 50 से अधिक लोगों की मृत्यु दर होती है और यहां तक कि दुनिया के सबसे अच्छे हाथों में भी भारत में बहुत कम केंद्र हैं,जो ऐसा करने का साहस करते हैं।

Comments

Popular posts from this blog

मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ का प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव सहकारिता भवन में सकुशल संपन्न हुआ

 संवाददाता लखनऊ l मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० (सम्बद्ध उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारी महासंघ) का  प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव आज  सहकारिता भवन सभागार , लखनऊ में सकुशल संपन्न हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  केंद्रीय राज्य मंत्री ( कौशल किशोर) आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय भारत सरकार रहे। विशिष्ठ अतिथि के रूप में उ०प्र० राज्य कर्मचारी महासंघ एवं उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  एस०पी० सिंह,  कमलेश मिश्रा,  नरेन्द्र प्रताप सिंह, उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  राम विरज रावत, पूर्णिमा सिन्हा उर्फ़ पूनम सिन्हा (फाउंडर ऑफ़ परिषद् ऑफ़ सहकारिता बैंक), प्रांतीय संरक्षक, मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० की  प्रभा सिंह उपस्थित रहे। इस अवसर पर उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के  दिवाकर सिंह, प्रांतीय अध्यक्ष एवं कनौजिया विनोद बुद्धिराम, कार्यकारी प्रांतीय अध्यक्ष,  चुनाव अधिकारियों की देख-रेख में चुनाव सकुशल संपन्न कराया गया । इस चुनाव में “स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग” क

सरकार ने शीघ्र मांगे नहीं मानी तो पेंशनर स्थगित आंदोलन पुनः चालू करेंगे

 ...   संवाददाता। लखनऊ  ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति और स्टेफको के संयुक्त तत्वाधान में आज एक सभा आवश्यक वस्तु निगम के गोखले मार्ग स्थित मुख्यालय में प्रांतीय महामंत्री राजशेखर नागर की अध्यक्षता में संपन्न हुई। जिसमें पिछले दिनों दिल्ली के रामलीला मैदान में पेंशनरों की रैली और जंतर मंतर पर अनशन के दौरान श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव द्वारा समिति के राष्ट्रीय नेताओं को बुलाकर वार्ता करने एवं आश्वासन देने के बाद आंदोलन स्थगित रखने की जानकारी दी गई।सभा में वक्ताओं ने कहा कि हमें अब सरकार के कोरे आश्वासनों पर विश्वास नहीं करना चाहिए और अगर सरकार शीघ्र ही हमारी मांगे नहीं मानती है तो स्थगित आंदोलन को पुनः और बड़े स्तर पर जारी करना चाहिए।तभी सरकार कोई ठोस कार्रवाई करेगी।समिति के राष्ट्रीय सचिव राजीव भटनागर ने बताया कि श्रम सचिव के साथ शीघ्र एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित करने का प्रयास हो रहा है जिसमें न्यूनतम पेंशन बढ़ाने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाएगा।अनेक वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों द्वारा भी समिति के नेताओं से वार्ता कर उनकी मांगों का समर

पेंशनरों ने मुख्यमंत्री से पेंशन बढ़ाने और बकाया एरियर्स के भुगतान कराने की माँग की

 लखनऊ/संवाददाता   10 जुलाई। ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति के महामंत्री राज शेखर नागर के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के  जनता  दर्शन  में   ईपीएस-95  पेंशनरों की   न्यूनतम पेंशन बढ़वाने ,फ्री मेडिकल सुविधा दिलवाने की माँग की। इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश  के अधिकांश निगमों में छठा  वेतनमान का  एरियर का भुगतान नही हुआ है जबकि  पेंशनरों को बहुत कम पेंशन मिलने से आर्थिक बदहाली झेल  रहे हैं।  इसलिए  मुख्यमंत्री से सभी निगमों के  पेंशनरों  को छठे वेतनमान के बकाया एरियर्स का  भुगतान करने के आदेश निर्गत करने की भी माँग की गई। आवश्यक वस्तु निगम में पेंशनरों की  महासमिति की  बैठक मे  निर्णय लिया गया कि  यदि  बकाया एरियर्स का भुगतान शीघ्र नहीं किया गया तो निगम के सेवानिवृत्त कर्मी   अनशन पर बैठेंगे।       महासमिति की बैठक में हबीब खान, राजीव  भटनागर, पी के  श्रीवास्तव, फ्रेडरिक क्रूज,एन सी सक्सेना,राजीव पांडे, सतीश श्रीवास्तव  पीताम्बर भट्ट उपस्थिति रहे।  राजीव भटनागर  मुख्य समन्वयक  उत्तर प्रदेश।