Skip to main content

विद्युत कर्मचारी मोर्चा संगठन, उ०प्र० का 44वाँ वार्षिक महाधिवेशन 28-29 जनवरी,2024 को आयोजित किया जा रहा है।

...
 संवाददाता।
लखनऊ
28 एवं 29 जनवरी को सम्पन्न होने वाले अधिवेशन में सस्ती लोकप्रियता एवं निजी स्वार्थ सिद्धि बाले नेताओं द्वारा देश एवं प्रदेश स्तर पर गिराई गई ट्रेड यूनियन की साख को पुनः बुलन्दी पर लाने, कर्मचारी समस्याओं के समाधान एवं व्यवस्था में आमूल चूल परिवर्तन के लिये दीर्घ कालीन रणनीति बनाई जायेगी।
अधिवेशन का उद्‌घाटन बृजेश पाठक, उपमुख्यमंत्री उ०प्र० सरकार, अरविन्द कुमार शर्मा, ऊर्जामंत्री, उ0प्र0 सरकार मुख्य अतिथि स्वतंत्र देव सिंह,जल शक्ति मंत्री,प्रमुख वक्ता, कौशल किशोर, राज्य मंत्री भारत सरकार विशिष्ट अतिथि, आशीष गोयल (आई०ए०एस०) अध्यक्ष उ०प्र०पावर कारपोरेशन लि०, मुख्य अतिथि, पंकज कुमार (आई०ए०एस०), प्रबन्ध निदेशक उ0प्र0 पावर कारपोरेशन लि०, भगवत प्रसाद मकवाना, पूर्वमंत्री एवं केन्द्रीय सर्तकता समिति, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय भारत सरकार विशिष्ट अतिथि होंगे और समापन आर कन्नन , जनरल सेक्रेटरी साउथ एशिया, पब्लिक सर्विसेज इण्टरनेशनल करेंगें।
सम्मेलन में मुख्य रूप से सरकार और प्रबन्धन के साथ 2 अक्टबूर 2020 को संगठन के मांगपत्र पर हुये समझौते को लागू करवाने पर विशेष जोर दिया जायेगा। संगठन की प्रमुख मांगे यथा- विद्युत व्यवस्था में आमूलचूल परिवर्तन करते हुये पुरानी पेंशन लागू कराना, फरवरी 2009 के बाद शेष तृतीय श्रेणी के कार्मिकों को भी तृतीय समयबद्ध वेतनमान रू0 6600/-रूपये दिलाना, नान कॉमन कैडर के कार्मिकों को समझौते के अनुसार उनके गृह अंचल में तैनाती हेतु आमेलन का आदेश कराना, गैर तकनीकी कर्मचारियों को भी अन्य की भांति अतिरिक्त वेतनवृ‌द्धि का लाभ समझौते के अनुसार लागू कराना, संविदा में कार्यरत कर्मचारियों को पूर्वांचल की भांति नियमित सेवा में समायोजित होने तक उनका मानदेय बढ़ाना। -पर प्रबन्धन की हठधर्मिता विभागीय कार्य संस्कृति, कार्मिकों के मनोबल और कार्यक्षमता पर बेहद
प्रतिकूल प्रभाव डाल रहा है।
विद्युत विभाग के कर्मचारियों की समस्याओं का त्वरित समाधान न करके लटकाए रखने की प्रवृत्ति के कारण रोज नए संगठन विभाग में पैदा होते हैं, जिसके कारण कार्य का माहौल भी खराब होता है और कर्मचारी समस्याओं का निदान किस तरह हो इसके लेकर भ्रम की स्थिति भी पैदा होती है।
पत्रकार वार्ता में नवीन गौतम्, कार्यकारी अध्यक्ष, इं० मोहन श्रीवास्तव, कार्यवाहक अध्यक्ष, अजय कुमार माथुर, बरिष्ठ उपाध्यक्ष, कन्हैया लाल, प्रदेश अध्यक्ष लेखा, देवअशीष तिलक, प्रदेश अध्यक्ष, खेल प्रकोष्ठ, पी०सी० वर्मा, संगठन मंत्री, सुशील शुक्ला, सलाहकार, रामशंकर,महामंत्री, सुरेश शाह,अनिल बाजपेई एवं अन्य वरिष्ठ पदाधिकारी उपस्थित रहे।

Comments

Popular posts from this blog

मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ का प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव सहकारिता भवन में सकुशल संपन्न हुआ

 संवाददाता लखनऊ l मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० (सम्बद्ध उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारी महासंघ) का  प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव आज  सहकारिता भवन सभागार , लखनऊ में सकुशल संपन्न हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  केंद्रीय राज्य मंत्री ( कौशल किशोर) आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय भारत सरकार रहे। विशिष्ठ अतिथि के रूप में उ०प्र० राज्य कर्मचारी महासंघ एवं उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  एस०पी० सिंह,  कमलेश मिश्रा,  नरेन्द्र प्रताप सिंह, उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  राम विरज रावत, पूर्णिमा सिन्हा उर्फ़ पूनम सिन्हा (फाउंडर ऑफ़ परिषद् ऑफ़ सहकारिता बैंक), प्रांतीय संरक्षक, मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० की  प्रभा सिंह उपस्थित रहे। इस अवसर पर उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के  दिवाकर सिंह, प्रांतीय अध्यक्ष एवं कनौजिया विनोद बुद्धिराम, कार्यकारी प्रांतीय अध्यक्ष,  चुनाव अधिकारियों की देख-रेख में चुनाव सकुशल संपन्न कराया गया । इस चुनाव में “स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग” क

सरकार ने शीघ्र मांगे नहीं मानी तो पेंशनर स्थगित आंदोलन पुनः चालू करेंगे

 ...   संवाददाता। लखनऊ  ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति और स्टेफको के संयुक्त तत्वाधान में आज एक सभा आवश्यक वस्तु निगम के गोखले मार्ग स्थित मुख्यालय में प्रांतीय महामंत्री राजशेखर नागर की अध्यक्षता में संपन्न हुई। जिसमें पिछले दिनों दिल्ली के रामलीला मैदान में पेंशनरों की रैली और जंतर मंतर पर अनशन के दौरान श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव द्वारा समिति के राष्ट्रीय नेताओं को बुलाकर वार्ता करने एवं आश्वासन देने के बाद आंदोलन स्थगित रखने की जानकारी दी गई।सभा में वक्ताओं ने कहा कि हमें अब सरकार के कोरे आश्वासनों पर विश्वास नहीं करना चाहिए और अगर सरकार शीघ्र ही हमारी मांगे नहीं मानती है तो स्थगित आंदोलन को पुनः और बड़े स्तर पर जारी करना चाहिए।तभी सरकार कोई ठोस कार्रवाई करेगी।समिति के राष्ट्रीय सचिव राजीव भटनागर ने बताया कि श्रम सचिव के साथ शीघ्र एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित करने का प्रयास हो रहा है जिसमें न्यूनतम पेंशन बढ़ाने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाएगा।अनेक वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों द्वारा भी समिति के नेताओं से वार्ता कर उनकी मांगों का समर

पेंशनरों ने मुख्यमंत्री से पेंशन बढ़ाने और बकाया एरियर्स के भुगतान कराने की माँग की

 लखनऊ/संवाददाता   10 जुलाई। ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति के महामंत्री राज शेखर नागर के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के  जनता  दर्शन  में   ईपीएस-95  पेंशनरों की   न्यूनतम पेंशन बढ़वाने ,फ्री मेडिकल सुविधा दिलवाने की माँग की। इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश  के अधिकांश निगमों में छठा  वेतनमान का  एरियर का भुगतान नही हुआ है जबकि  पेंशनरों को बहुत कम पेंशन मिलने से आर्थिक बदहाली झेल  रहे हैं।  इसलिए  मुख्यमंत्री से सभी निगमों के  पेंशनरों  को छठे वेतनमान के बकाया एरियर्स का  भुगतान करने के आदेश निर्गत करने की भी माँग की गई। आवश्यक वस्तु निगम में पेंशनरों की  महासमिति की  बैठक मे  निर्णय लिया गया कि  यदि  बकाया एरियर्स का भुगतान शीघ्र नहीं किया गया तो निगम के सेवानिवृत्त कर्मी   अनशन पर बैठेंगे।       महासमिति की बैठक में हबीब खान, राजीव  भटनागर, पी के  श्रीवास्तव, फ्रेडरिक क्रूज,एन सी सक्सेना,राजीव पांडे, सतीश श्रीवास्तव  पीताम्बर भट्ट उपस्थिति रहे।  राजीव भटनागर  मुख्य समन्वयक  उत्तर प्रदेश।