Skip to main content

इस्कॉन के संस्थापक श्रील प्रभुपाद जी के गुरू श्रील भक्ति सिद्धांत सरस्वती ठाकुर जी महाराज का आविर्भाव (जन्मदिवस)दिवस धूम-धाम से मनाया गया

...
संवाददाता। लखनऊ 
इस्कॉन के संस्थापक श्रील प्रभुपाद जी के गुरू श्रील भक्ति सिद्धांत सरस्वती ठाकुर जी महाराज का आविर्भाव (जन्मदिवस)दिवस धूम-धाम से मनाया गया
श्रील भक्ति सिद्धांत सरस्वती ठाकुर जी महाराज के आविर्भाव दिवस पर कथा में उपाध्यक्ष श्रीमान भोक्ता राम प्रभु जी ने बताया कि इनका जन्म पुरी उड़ीसा मे 6 फ़रवरी 1874 क़ो केदारनाथ श्रीमान भक्ति विनोद ठकुर जी के घर हुआ था l श्रील भक्ति सिद्धांत सरस्वती ठाकुर जी महाराज जब 06 माह के थे तब भगवान जगन्नाथ जी की रथ यात्रा के दौरान उनका रथ इनके घर के सामने आकर रुक गया और 03 दिन तक वही रुका रहा, जब इनकी माताजी इन्हे भगवान के सामने लेकर आयीं तब भगवान के गले की माला इनके ऊपर गिर गयी यह देख कर इनके पिता जान गये कि भगवान ने इस बालाक को कृष्ण भावनामृत का प्रचार करने के लिए भेजा है l

 श्रील भक्ति सिद्धांत सरस्वती ठाकुर जी महाराज अत्यन्त तीक्ष्ण बुद्धि के थे, इन्होने 07 वर्ष की अवस्था मे सम्पूर्ण श्रीमद भगवतगीता कंठस्थ कर ली थी और 08 वर्ष की अवस्था मे उन्होंने इस पर प्रवचन देना शुरू कर दिया था, तरुणावस्था मे इनकी श्रद्धा क़ो देखते हुए आपके पिताजी एवं महान आचार्य ने अपने शिष्य गौर किशोर दास बाबा जी महाराज के पास दीक्षा के लिए भेजा और कठिन परीक्षाओं के बाद उन्हें दीक्षा प्रदान की, जो उनके एक मात्र शिष्य हैं l
     
 श्रील भक्ति सिद्धांत सरस्वती ठाकुर जी महाराज ने कृष्ण भावनामृत के प्रचार के लिए सम्पूर्ण भारत का भ्रमण किया और 64 गौड़ीय मठ मंदिरों की स्थापना की साथ ही साथ वृहद मृदंग के नाम से मद्रास, अहमदाबाद एवं कृष्ण नगर में प्रिंटिंग प्रेस भी स्थापित की, जिसके द्वारा इन्होने गौरांग महाप्रभु के सन्देश क़ो किताबों, पत्रिकाओं एवं अखबार के माध्यम से प्रचारित किया l

  श्रील भक्ति सिद्धांत सरस्वती ठाकुर जी महाराज ने अपने पिता द्वारा लिखित पुस्तकों के साथ-साथ श्रीमद भगवतगीता, श्रीमद भागवतम, चैतन्य भागवत, चैतन्य मंगल एवं उनके प्रिय चैतन्य चरितामृत क़ो भी प्रकाशित किया,साथ ही आप अंग्रेजी भाषा के प्रकाण्ड विद्वान थे, इनके पास शब्दों का ऐसा संकलन था जिसे समझने के लिए विदेशी भक्तों क़ो भी डिक्शनरी का प्रयोग करना पड़ता था l इनके निर्भीक प्रचार के कारण इन्हे सिंह गुरू कहा जाता है l एक बार श्रील भक्ति सिद्धांत सरस्वती ठाकुर जी महाराज ने भगवान क़ो बिना भोग लगाए आम ग्रहण कर लिया था, जिसका एहसास होते ही उन्होंने संकल्प लिया कि अब जीवन मे कभी बिना भगवान क़ो भोग लगाए कुछ भी ग्रहण नहीं करूंगा और आजीवन उसका पालन किया l

  श्रील भक्ति सिद्धांत सरस्वती ठाकुर जी महाराज असाधारण प्रचारक थे, इनके असाधारण प्रचार एवं सफलता के अतिरिक्त भक्ति वेदांत स्वामी श्रील प्रभुपाद जैसा शिष्य भी इन्ही का योगदान है, जिन्होने अंतरष्ट्रीय कृष्ण भावनामृत संघ (इस्कॉन) की स्थापना की और अपने गुरू श्रील भक्ति सिद्धांत सरस्वती ठाकुर जी महाराज के निर्देशानुसार सम्पूर्ण विश्व मे कृष्ण भावनामृत का प्रचार-प्रसार किया l

 उल्लेखनीय है कि श्रील भक्ति सिद्धांत सरस्वती ठाकुर जी महाराज जी की 150वीं जन्म शताब्दी वर्ष पर उनके सम्मानार्थ भारत के यशश्वी प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने रूo 500 का डाक टिकट एवं रूo 150/- का सिक्का भारत मंडपम मे अभी हाल मे ही जारी किया l

    कार्यक्रम के समापन पर अपरान्ह तक उपवास के उपरान्त सभी भक्तों के लिए भोजन प्रसादम(भंडारा) संपन्न हुआ।

अंत मे उपाध्यक्ष श्रीमान भोक्ता राम प्रभुजी ने सभी भक्तो से श्रील भक्ति सिद्धांत सरस्वती ठाकुर जी महाराज के जीवन एवं आचरण से शिक्षा लेते हुए श्रीमद्भगवतगीता यथारूप स्वाध्याय, हरिनाम जप एवं श्री श्री राधारमण बिहारी जी की अधिक से अधिक प्रेम भाव से सेवा करने को कहा जिससे उनकी कृपा सबको प्राप्त हो।

Comments

Popular posts from this blog

मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ का प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव सहकारिता भवन में सकुशल संपन्न हुआ

 संवाददाता लखनऊ l मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० (सम्बद्ध उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारी महासंघ) का  प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव आज  सहकारिता भवन सभागार , लखनऊ में सकुशल संपन्न हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  केंद्रीय राज्य मंत्री ( कौशल किशोर) आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय भारत सरकार रहे। विशिष्ठ अतिथि के रूप में उ०प्र० राज्य कर्मचारी महासंघ एवं उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  एस०पी० सिंह,  कमलेश मिश्रा,  नरेन्द्र प्रताप सिंह, उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  राम विरज रावत, पूर्णिमा सिन्हा उर्फ़ पूनम सिन्हा (फाउंडर ऑफ़ परिषद् ऑफ़ सहकारिता बैंक), प्रांतीय संरक्षक, मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० की  प्रभा सिंह उपस्थित रहे। इस अवसर पर उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के  दिवाकर सिंह, प्रांतीय अध्यक्ष एवं कनौजिया विनोद बुद्धिराम, कार्यकारी प्रांतीय अध्यक्ष,  चुनाव अधिकारियों की देख-रेख में चुनाव सकुशल संपन्न कराया गया । इस चुनाव में “स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग” क

सरकार ने शीघ्र मांगे नहीं मानी तो पेंशनर स्थगित आंदोलन पुनः चालू करेंगे

 ...   संवाददाता। लखनऊ  ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति और स्टेफको के संयुक्त तत्वाधान में आज एक सभा आवश्यक वस्तु निगम के गोखले मार्ग स्थित मुख्यालय में प्रांतीय महामंत्री राजशेखर नागर की अध्यक्षता में संपन्न हुई। जिसमें पिछले दिनों दिल्ली के रामलीला मैदान में पेंशनरों की रैली और जंतर मंतर पर अनशन के दौरान श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव द्वारा समिति के राष्ट्रीय नेताओं को बुलाकर वार्ता करने एवं आश्वासन देने के बाद आंदोलन स्थगित रखने की जानकारी दी गई।सभा में वक्ताओं ने कहा कि हमें अब सरकार के कोरे आश्वासनों पर विश्वास नहीं करना चाहिए और अगर सरकार शीघ्र ही हमारी मांगे नहीं मानती है तो स्थगित आंदोलन को पुनः और बड़े स्तर पर जारी करना चाहिए।तभी सरकार कोई ठोस कार्रवाई करेगी।समिति के राष्ट्रीय सचिव राजीव भटनागर ने बताया कि श्रम सचिव के साथ शीघ्र एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित करने का प्रयास हो रहा है जिसमें न्यूनतम पेंशन बढ़ाने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाएगा।अनेक वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों द्वारा भी समिति के नेताओं से वार्ता कर उनकी मांगों का समर

पेंशनरों ने मुख्यमंत्री से पेंशन बढ़ाने और बकाया एरियर्स के भुगतान कराने की माँग की

 लखनऊ/संवाददाता   10 जुलाई। ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति के महामंत्री राज शेखर नागर के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के  जनता  दर्शन  में   ईपीएस-95  पेंशनरों की   न्यूनतम पेंशन बढ़वाने ,फ्री मेडिकल सुविधा दिलवाने की माँग की। इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश  के अधिकांश निगमों में छठा  वेतनमान का  एरियर का भुगतान नही हुआ है जबकि  पेंशनरों को बहुत कम पेंशन मिलने से आर्थिक बदहाली झेल  रहे हैं।  इसलिए  मुख्यमंत्री से सभी निगमों के  पेंशनरों  को छठे वेतनमान के बकाया एरियर्स का  भुगतान करने के आदेश निर्गत करने की भी माँग की गई। आवश्यक वस्तु निगम में पेंशनरों की  महासमिति की  बैठक मे  निर्णय लिया गया कि  यदि  बकाया एरियर्स का भुगतान शीघ्र नहीं किया गया तो निगम के सेवानिवृत्त कर्मी   अनशन पर बैठेंगे।       महासमिति की बैठक में हबीब खान, राजीव  भटनागर, पी के  श्रीवास्तव, फ्रेडरिक क्रूज,एन सी सक्सेना,राजीव पांडे, सतीश श्रीवास्तव  पीताम्बर भट्ट उपस्थिति रहे।  राजीव भटनागर  मुख्य समन्वयक  उत्तर प्रदेश।