Skip to main content

नशेब-ओ-फ़राज़ कोई कथा नहीं बल्कि एक दस्तावेज है - अनीस अंसारी‘‘अदबजार’’ ने यूपी प्रेस क्लब में विमोचन समारोह का आयोजन किया


...
संवाददाता/लखनऊ 
लखनऊ। 28 नवंबर जियाउर्रहमान अंसारी की राजनीतिक उपलब्धियों, राष्ट्रीय एवं राष्ट्रीय सेवाओं पर छाई छाया को दूर करने के लिए शहर के लेखकों की सक्रिय संस्था ‘‘अदब जार’’ ने यूपी प्रेस क्लब में ‘‘नशेब-ओ-फ़राज़’’ नामक पुस्तक का विमोचन किया। 
इस अवसर पर स्वर्गीय जियाउर रहमान अंसारी के पुराने सहयोगी, करीबी रिश्तेदार, लेखक, कवि और बुद्धिजीवी हजरतगंज स्थित यूपी प्रेस क्लब में एकत्र हुए। प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया अवार्ड से सम्मानित प्रमुख पत्रकार अहमद इब्राहिम अल्वी ने अध्यक्षता करते हुए कहा कि जियाउर्रहमान अंसारी की जीवनशैली उल्लेखनीय और प्रचारयोग्य है। संसद में शाह बानो मामले पर उनके भाषण को सार्वजनिक किया जाना चाहिए। इलेक्ट्रॉनिक मीडिया से जुड़े पत्रकार डॉ. तारिक कमर ने हयात जिया-उर-रहमान अंसारी के संबंध में कई महत्वपूर्ण प्रश्न पूछे, जिनका पुस्तक के लेखक फसीहुर-रहमान ने संक्षिप्त और विस्तृत उत्तर दिया। प्रतिभागियों और दर्शकों की जानकारी काफी बढ़ी। विशिष्ट अतिथि डॉ. अम्मार रिजवी के अनुसार मरहूम जियाउर्रहमान अंसारी एक बहुत बड़े कद के व्यक्ति थे, जो देश हित के लिए समर्पित थे और राजनीति में रहते हुए भी पाक साफ बने रहे। डॉ. अनीस अंसारी (ख्वाजा मोइनुद्दीन चिश्ती विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति) ने फसीहुर रहमान अंसारी के जुनून, समर्पण और कार्य की प्रशंसा की और कहा कि जियाउर्रहमान अंसारी के व्यक्तित्व और सेवाओं पर लिखी गई पुस्तक एक कथा नहीं बल्कि एक दस्तावेज है। विशिष्ट अतिथि इमाम ईदगाह मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने कहा कि उनका दिल देश और राष्ट्र के विकास और कल्याण के लिए तड़पता था। वह एक स्वतंत्रता सेनानी थे और उन्होंने जीवन भर साहसपूर्वक काम किया। मशहूर फिक्शन लेखक सुहेल काकोरवी की नजर में उन्होंने अबुल कलाम आजाद की शैली अपनाई. उन्होंने अपने भाषणों को शानदार कविताओं से सजाया और विरोधियों को उनकी प्रशंसा करने पर मजबूर कर दिया. अनवर हबीब अल्वी ने अतिथियों का परिचय कराया। संयोजक अशअर अलीग ने अतिथियों का स्वागत पुष्पगुच्छ देकर किया। उन्होंने कवियों-लेखकों और अन्य वर्गों को तहे दिल से धन्यवाद दिया।
प्रोग्राम का संचालन करने वाले रिजवान फारूकी ने कहा कि रजा मेहदी अनुवाद की कला में एक विशिष्ट व्यक्ति हैं। अनुवाद अच्छा है क्योंकि यह अनुवाद एक रचना बन चुका है।
विशेष प्रतिभागियों के नाम क्रमशः इस प्रकार श्रीमती जेइबा अल्वी (पाकिस्तान), कारी रियाज नदवी, प्रो. गोहर आलम, सुश्री तसनीम रसूल, अनुभव शुक्ला एडवोकेट, हफीजुर रहमान (गंज मुरादाबाद), अरशद खान, मुस्तफा जायसी, प्रो. (डॉ.) शकील अहमद कादवई, हमीद असगर उस्मानी, डॉ. मंसूर हसन खान, जमाल नुसरत, डॉ. सरवत तकी, शारिक अल्वी, मुहम्मद खालिद, अबू हुरैरा उस्मानी, मुही बख्श कादरी, नुजहत शहाब चिश्ती, हसन काजमी, कमर सीतापुरी, राजीव प्रकाश साहिर, अब्दुल्ला सिद्दीकी आदि।
रिजवान अहमद फारूकी

Comments

Popular posts from this blog

मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ का प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव सहकारिता भवन में सकुशल संपन्न हुआ

 संवाददाता लखनऊ l मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० (सम्बद्ध उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारी महासंघ) का  प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव आज  सहकारिता भवन सभागार , लखनऊ में सकुशल संपन्न हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  केंद्रीय राज्य मंत्री ( कौशल किशोर) आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय भारत सरकार रहे। विशिष्ठ अतिथि के रूप में उ०प्र० राज्य कर्मचारी महासंघ एवं उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  एस०पी० सिंह,  कमलेश मिश्रा,  नरेन्द्र प्रताप सिंह, उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  राम विरज रावत, पूर्णिमा सिन्हा उर्फ़ पूनम सिन्हा (फाउंडर ऑफ़ परिषद् ऑफ़ सहकारिता बैंक), प्रांतीय संरक्षक, मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० की  प्रभा सिंह उपस्थित रहे। इस अवसर पर उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के  दिवाकर सिंह, प्रांतीय अध्यक्ष एवं कनौजिया विनोद बुद्धिराम, कार्यकारी प्रांतीय अध्यक्ष,  चुनाव अधिकारियों की देख-रेख में चुनाव सकुशल संपन्न कराया गया । इस चुनाव में “स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग” क

सरकार ने शीघ्र मांगे नहीं मानी तो पेंशनर स्थगित आंदोलन पुनः चालू करेंगे

 ...   संवाददाता। लखनऊ  ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति और स्टेफको के संयुक्त तत्वाधान में आज एक सभा आवश्यक वस्तु निगम के गोखले मार्ग स्थित मुख्यालय में प्रांतीय महामंत्री राजशेखर नागर की अध्यक्षता में संपन्न हुई। जिसमें पिछले दिनों दिल्ली के रामलीला मैदान में पेंशनरों की रैली और जंतर मंतर पर अनशन के दौरान श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव द्वारा समिति के राष्ट्रीय नेताओं को बुलाकर वार्ता करने एवं आश्वासन देने के बाद आंदोलन स्थगित रखने की जानकारी दी गई।सभा में वक्ताओं ने कहा कि हमें अब सरकार के कोरे आश्वासनों पर विश्वास नहीं करना चाहिए और अगर सरकार शीघ्र ही हमारी मांगे नहीं मानती है तो स्थगित आंदोलन को पुनः और बड़े स्तर पर जारी करना चाहिए।तभी सरकार कोई ठोस कार्रवाई करेगी।समिति के राष्ट्रीय सचिव राजीव भटनागर ने बताया कि श्रम सचिव के साथ शीघ्र एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित करने का प्रयास हो रहा है जिसमें न्यूनतम पेंशन बढ़ाने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाएगा।अनेक वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों द्वारा भी समिति के नेताओं से वार्ता कर उनकी मांगों का समर

पेंशनरों ने मुख्यमंत्री से पेंशन बढ़ाने और बकाया एरियर्स के भुगतान कराने की माँग की

 लखनऊ/संवाददाता   10 जुलाई। ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति के महामंत्री राज शेखर नागर के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के  जनता  दर्शन  में   ईपीएस-95  पेंशनरों की   न्यूनतम पेंशन बढ़वाने ,फ्री मेडिकल सुविधा दिलवाने की माँग की। इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश  के अधिकांश निगमों में छठा  वेतनमान का  एरियर का भुगतान नही हुआ है जबकि  पेंशनरों को बहुत कम पेंशन मिलने से आर्थिक बदहाली झेल  रहे हैं।  इसलिए  मुख्यमंत्री से सभी निगमों के  पेंशनरों  को छठे वेतनमान के बकाया एरियर्स का  भुगतान करने के आदेश निर्गत करने की भी माँग की गई। आवश्यक वस्तु निगम में पेंशनरों की  महासमिति की  बैठक मे  निर्णय लिया गया कि  यदि  बकाया एरियर्स का भुगतान शीघ्र नहीं किया गया तो निगम के सेवानिवृत्त कर्मी   अनशन पर बैठेंगे।       महासमिति की बैठक में हबीब खान, राजीव  भटनागर, पी के  श्रीवास्तव, फ्रेडरिक क्रूज,एन सी सक्सेना,राजीव पांडे, सतीश श्रीवास्तव  पीताम्बर भट्ट उपस्थिति रहे।  राजीव भटनागर  मुख्य समन्वयक  उत्तर प्रदेश।