Skip to main content
ब्रेकथ्रू ने अपने सर्वे के आँकड़े मे बताया कि 28%
 किशोर-किशोरी अब समुदाय में लैंगिक भेदभाव के मुद्दे पर बात करने लगे हैं
...
 
5 फ़रवरी 2024।लखनऊ। समुदाय स्तर पर किशोर-किशोरियों के मुद्दों को समझने और समाज में लैंगिक न्याय और समानता को बढ़ावा देने के लिए उत्तर प्रदेश के लखनऊ,गोरखपुर, महाराजगंज और गाजीपुर में ज़मीनी स्तर पर ब्रेकथ्रू विभिन्न कार्यक्रमों के माध्यम से जागरूकता हेतु कार्य कर रहा है| इसी संदर्भ में हुए एक सर्वे के परिणामों को ले कर लखनऊ में आज एक परिचर्चा का आयोजन किया गया था| 
कार्यक्रम की शुरुआत करते हुए मुख्य अथिति जिला समाज कल्याण अधिकारी सुनीता सिंह ने कहा कि आज के दौर में हमें निर्णय लेने कि क्षमता और आत्मबल का विकास करने की जरूरत है क्योंकि यही हमारी आकांक्षाओं को पूरा करने का कार्य करती हैं।|उन्होंने ब्रेकथ्रू द्वारा उत्तर प्रदेश में महिलाओं से जुड़ी हिंसा के मुद्दे पर किए जा रहे विभिन्न कार्यों की प्रशंसा करी।
कार्यक्रम में ब्रेकथ्रू द्वारा उत्तर प्रदेश के लखनऊ,गोरखपुर, महाराजगंज और गाजीपुर के ब्लॉक में किए गए एक सर्वे के आँकड़े भी साझा किए गए । यह आँकड़े किशोर-किशोरियों के करियर संबंधी आकांक्षाओं,माता-पिता के सहयोग,अंतर पीढ़ी संवाद,हिंसा के मुद्दे पर समझ और स्वास्थ्य सेवाओं तक पहुँच जैसे मुद्दों पर केंद्रित हैं ।इस सर्वे के आधार पर यह पाया गया कि लखनऊ और गोरखपुर के समुदायों में 28% किशोर-किशोरी अब लैंगिक भेदभाव के मुद्दे पर बात करने लगे हैं।
इस अवसर पर ब्रेकथ्रू के मॉनिटरिंग एवं मूल्यांकन विभाग की निदेशक स्वाति चक्रवर्ती ने बताया कि “ लखनऊ, गोरखपुर, गाज़ीपुर और महराजगंज में फैले हमारे सभी चयनित क्षेत्रों में उच्च शिक्षा यानी स्नातक और स्नातकोत्तर स्तर की पढ़ाई करने हेतु किशोर-किशोरियों की आकांक्षा के अनुपात में काफ़ी बढ़ोतरी हुई है। ”

कार्यक्रम में ब्रेकथ्रू की राज्य प्रमुख कृति प्रकाश ने कहा, " समुदाय स्तर पर हम अपने कार्यों के माध्यम से यह देख पा रहे हैं कि समुदाय के स्तर पर किशोर-किशोरियों में हिंसा और उनसे जुड़े अन्य मुद्दों जैसे आकांक्षा,करियर के विकल्प इत्यादि के प्रति समझ बढ़ रही है| वर्तमान में हुए सर्वे के आधार पर यह कहा जा सकता है कि लखनऊ के हमारे गोसाईगंज,मोहनलालगंज और ब्लॉक में 38% और गोरखपुर के केमपियरगंज,जंगल कौड़िया और भटहट ब्लॉक में 15% किशोर-किशोरियों ने यह माना है कि अब वो अपनी शादी की उम्र को ले कर खुल कर बात कर रहे हैं|” 
इस कार्यक्रम में ब्रेकथ्रू से डॉ अभिषेक,अश्वनी,ऋचा,रानी,सुप्रिया,चंदन,सुनील,विनोद और सभी स्टाफ के अलावा कई किशोर-किशोरियों,टीम चेंज लीडर्स,टीचर,अभिभावक,महिला एवं बाल विकास विभाग से कई प्रतिनिधियों ने भी भाग लिया|

ब्रेकथ्रू के बारे में : 
लिंग आधारित/लैंगिक हिंसा के कई चेहरे हैं, जिनमें यौन उत्पीड़न जैसे स्पष्ट चेहरे से लेकर भावनात्मक शोषण, वित्तीय शोषण या किसी अवसर से इनकार जैसे सूक्ष्म चेहरे भी शामिल हैं। आक्रोश और कानूनी बाधाओं से परे, सच्चे परिवर्तन में उस संस्कृति को बदलना शामिल है जो हिंसा करने की अनुमति देती है।
इस परिवर्तन को लागू करने का सबसे प्रभावी तरीका व्यवहार में ठोस परिवर्तन होने से पहले लैंगिक मानदंडों और मान्यताओं को ढालना है। यह पूरे उत्तर भारत में लगभग 20 लाख किशोरों के साथ ब्रेकथ्रू के काम को रेखांकित करता है। जैसे-जैसे हम सपनों, आकांक्षा, नेतृत्व, एजेंसी और बातचीत कौशल को बढ़ावा देकर उनकी क्षमता का निर्माण करते हैं, एक पूरी पीढ़ी सक्षम संस्कृति की ओर बढ़ रही है जिसमें लिंग आधारित/ लैंगिक भेदभाव वाली हिंसा अस्वीकार्य है। जब लिंग मानदंड बदलते हैं, तो लड़कियों के लिए सब कुछ बदल जाता है - घर के कामकाज के बंटवारे से लेकर शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार की पहुँच तक सब कुछ बदल जाता है। इस पीढ़ीगत बदलाव का प्रमाण हमारे समुदायों में शादी की उम्र और स्कूल जाने वाली लड़कियों की संख्या में लगातार वृद्धि में दिखाई दे रहा है |
हमारे मिशन का नेतृत्व 11 से 24 वर्ष की आयु के युवा कर रहे हैं। जैसे-जैसे वे लिंग आधारित हिंसा के खिलाफ़ आवाज़ उठाते हैं, हम मीडिया टूल के माध्यमों के साथ उनकी यात्रा का भी समर्थन करते हैं जो सार्वजनिक स्तर पर नरेटिव का निर्माण करते हैं और लोगों को समानता, गरिमा और न्याय की दुनिया की कल्पना करने के लिए प्रेरित करते हैं।

Comments

Popular posts from this blog

मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ का प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव सहकारिता भवन में सकुशल संपन्न हुआ

 संवाददाता लखनऊ l मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० (सम्बद्ध उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारी महासंघ) का  प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव आज  सहकारिता भवन सभागार , लखनऊ में सकुशल संपन्न हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  केंद्रीय राज्य मंत्री ( कौशल किशोर) आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय भारत सरकार रहे। विशिष्ठ अतिथि के रूप में उ०प्र० राज्य कर्मचारी महासंघ एवं उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  एस०पी० सिंह,  कमलेश मिश्रा,  नरेन्द्र प्रताप सिंह, उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  राम विरज रावत, पूर्णिमा सिन्हा उर्फ़ पूनम सिन्हा (फाउंडर ऑफ़ परिषद् ऑफ़ सहकारिता बैंक), प्रांतीय संरक्षक, मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० की  प्रभा सिंह उपस्थित रहे। इस अवसर पर उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के  दिवाकर सिंह, प्रांतीय अध्यक्ष एवं कनौजिया विनोद बुद्धिराम, कार्यकारी प्रांतीय अध्यक्ष,  चुनाव अधिकारियों की देख-रेख में चुनाव सकुशल संपन्न कराया गया । इस चुनाव में “स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग” क

सरकार ने शीघ्र मांगे नहीं मानी तो पेंशनर स्थगित आंदोलन पुनः चालू करेंगे

 ...   संवाददाता। लखनऊ  ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति और स्टेफको के संयुक्त तत्वाधान में आज एक सभा आवश्यक वस्तु निगम के गोखले मार्ग स्थित मुख्यालय में प्रांतीय महामंत्री राजशेखर नागर की अध्यक्षता में संपन्न हुई। जिसमें पिछले दिनों दिल्ली के रामलीला मैदान में पेंशनरों की रैली और जंतर मंतर पर अनशन के दौरान श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव द्वारा समिति के राष्ट्रीय नेताओं को बुलाकर वार्ता करने एवं आश्वासन देने के बाद आंदोलन स्थगित रखने की जानकारी दी गई।सभा में वक्ताओं ने कहा कि हमें अब सरकार के कोरे आश्वासनों पर विश्वास नहीं करना चाहिए और अगर सरकार शीघ्र ही हमारी मांगे नहीं मानती है तो स्थगित आंदोलन को पुनः और बड़े स्तर पर जारी करना चाहिए।तभी सरकार कोई ठोस कार्रवाई करेगी।समिति के राष्ट्रीय सचिव राजीव भटनागर ने बताया कि श्रम सचिव के साथ शीघ्र एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित करने का प्रयास हो रहा है जिसमें न्यूनतम पेंशन बढ़ाने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाएगा।अनेक वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों द्वारा भी समिति के नेताओं से वार्ता कर उनकी मांगों का समर

पेंशनरों ने मुख्यमंत्री से पेंशन बढ़ाने और बकाया एरियर्स के भुगतान कराने की माँग की

 लखनऊ/संवाददाता   10 जुलाई। ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति के महामंत्री राज शेखर नागर के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के  जनता  दर्शन  में   ईपीएस-95  पेंशनरों की   न्यूनतम पेंशन बढ़वाने ,फ्री मेडिकल सुविधा दिलवाने की माँग की। इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश  के अधिकांश निगमों में छठा  वेतनमान का  एरियर का भुगतान नही हुआ है जबकि  पेंशनरों को बहुत कम पेंशन मिलने से आर्थिक बदहाली झेल  रहे हैं।  इसलिए  मुख्यमंत्री से सभी निगमों के  पेंशनरों  को छठे वेतनमान के बकाया एरियर्स का  भुगतान करने के आदेश निर्गत करने की भी माँग की गई। आवश्यक वस्तु निगम में पेंशनरों की  महासमिति की  बैठक मे  निर्णय लिया गया कि  यदि  बकाया एरियर्स का भुगतान शीघ्र नहीं किया गया तो निगम के सेवानिवृत्त कर्मी   अनशन पर बैठेंगे।       महासमिति की बैठक में हबीब खान, राजीव  भटनागर, पी के  श्रीवास्तव, फ्रेडरिक क्रूज,एन सी सक्सेना,राजीव पांडे, सतीश श्रीवास्तव  पीताम्बर भट्ट उपस्थिति रहे।  राजीव भटनागर  मुख्य समन्वयक  उत्तर प्रदेश।