Skip to main content

भारत निर्वाचन आयोग की टीम ने प्रथम चरण में 40 जनपदों की स्वीप कार्यों की समीक्षा बैठक

...
-स्वीप नोडल अधिकारी मतदान प्रतिशत बढ़ाने हेतु तैयार करें प्लान

-दिव्यांगजनों, वृद्धजनों, महिलाओं एवं थर्ड जेंडर आदि को मतदान करने हेतु किया जाय प्रेरित

-माइग्रेशन के कारण बाहर जाने वाले मतदाताओं को मतदान के लिये वापस बुलाने का अभियान चलाया जाय 

-गैस सिलेण्डर तथा सार्वजनिक परिवहन के वाहनों पर “चुनाव का पर्व, देश का गर्व” स्टीकर के माध्यम से मतदाता जागरूकता का प्रचार-प्रसार कराया जाय 

-प्रत्येक जनपद कम से कम एक यूनिक पोलिंग बूथ बनाये जाएं।

-मीडिया तथा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म के माध्यम से भी मतदाता
जागरूकता कार्यक्रमों का किया जाय व्यापक प्रचार-प्रसार

संवाददाता। लखनऊ
 भारत निर्वाचन आयोग की टीम द्वारा प्रथम चरण में उत्तर प्रदेश के 40 जनपदों के स्वीप नोडल अधिकारियों के साथ आगामी लोक सभा सामान्य निर्वाचन 2024 के दृष्टिगत समीक्षा बैठक की गयी। आयोग की टीम द्वारा उत्तर प्रदेश मे भ्रमण के दूसरे दिन 25 जनपदों के स्वीप कार्यों की जानकारी ली गयी। भारत निर्वाचन आयोग के श्री संतोष कुमार, सचिव, श्री आर0के0 सिंह, सीनियर कन्सलटेंट स्वीप तथा सुश्री रजनी उपाध्याय, कम्यूनिकेशन कन्सलटेन्ट स्वीप के द्वारा स्वीप नोडल अधिकारियों को अपने जनपदों में मतदान प्रतिशत बढ़ाने पर जोर दिया गया। उन्होंने कहा कि कम मतदान प्रतिशत वाले बूथों के लिए विशेष योजना तैयार की जाय, जिससे वहां मतदान प्रतिशत राष्ट्रीय औसत के बराबर हो सके। इसके अलावा टारगेट ग्रुपों जैसे दिव्यांगजनों, वृद्धजनों, महिलाओं एवं थर्ड जेंडर आदि पर विशेष ध्यान दिया जाय तथा उन्हें मतदान करने हेतु प्रेरित किया जाय। इसके साथ ही प्रत्येक शुक्रवार को आकाशवाणी में 23 भाषाओं में प्रसारित हो रहे मतदाता जंक्शन कार्यक्रम तथा काॅमिक बुक ‘‘चाचा चैधरी और चुनावी दंगल’’ का व्यापक प्रचार-प्रसार किया जाए। आयोग के टीम ने माइग्रेशन के कारण बाहर जाने वाले मतदाताओं को मतदान के लिये वापस बुलाने का अभियान चलाने का निर्देश दिया, इसके लिए बल्क एसएमएस का भी प्रयोग किया जाय। गैस सिलेण्डर तथा सार्वजनिक परिवहन के वाहनों पर स्टीकर के माध्यम से मतदाता जागरूकता का प्रचार-प्रसार कराया जाय। प्रत्येक जनपद कम से कम एक यूनिक पोलिंग बूथ बनाये जाएं।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्री नवदीप रिणवा ने स्वीप नोडल अधिकारियों से कहा कि विशेष संक्षिप्त कार्यक्रम के तहत बने नये मतदाताओं को वोट देने हेतु प्रेरित किया जाय। उन्होंने कहा कि जनपदों में नामित किये गये, आइकन के माध्यम से अधिक से अधिक लोगों को मतदान करने हेतु जागरूक किया जाय। इसके साथ ही भारत निर्वाचन आयोग की वेबसाईट तथा वोटर हेल्पलाईन ऐप के माध्यम से आनलाईन नाम वोटर लिस्ट में चेक और संशोधित किया जा सकता है, इसकी जानकारी अधिक से अधिक लोगों को दी जाय। उन्होंने स्वीप नोडल अधिकारियों से कहा कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशों का अनुपालन सुनिश्चित कर मीडिया तथा सोशल मीडिया प्लेटफार्म के माध्यम से भी मतदाता जागरूकता कार्यक्रमों का व्यापक प्रचार-प्रसार सुनिश्चित किया जाय। जिन बूथों में वर्ष 2019 में मतदान प्रतिशत राज्य औसत 59.11 प्रतिशत से कम रहा है, वहाँ टारगेटेड स्वीप गतिविधियाँ संचालित कर मतदान प्रतिशत बढ़ाया जाय। उन्होंने कहा कि मतदान के दिन जारी होने वाले सार्वजनिक अवकाश का सभी सरकारी एवं निजी संस्थाओं में पूरी तरह से अनुपालन कराया जाय। इसके अलावा लोगो को यह जानकारी भी दी जाय कि यह सार्वजनिक अवकाश वोट देने हेतु दिया गया इसलिए मतदान केन्द्रों में जाकर अपने मताधिकार का प्रयोग करें।
मतदाता सूची में अभी नाम जोड़े जाने, संशोधन एवं डिलीट करने की कार्यवाही जारी है। निर्वाचन की घोषणा होते ही नाम डिलीट करने की कार्यवाही रोक दी जाएगी किन्तु नामांकन के अंतिम दिन तक नाम जोड़ने की कार्यवाही की जा सकती है। अतः जो भी युवा अर्ह हैं और उनका नाम किन्हीं कारणवश मतदाता सूची में दर्ज नहीं हो सका है, उनका फाॅर्म-6 भरवाकर पंजीकरण की कार्यवाही की जाय।
भारत निर्वाचन आयोग की टीम द्वारा प्रथम चरण में उत्तर प्रदेश के 40 जनपदों के स्वीप नोडल अधिकारियों के साथ बैठक की गयी। जिसमें प्रथम दिवस में 15 जनपदों तथा द्वितीय दिवस में 25 जनपदों के स्वीप नोडल अधिकारियों के साथ बैठक की गयी। 
 बैठक में फतेहपुर, कौशाम्बी, आजमगढ़, बलिया, मऊ, अयोध्या, अम्बेडकर नगर, सुल्तानपुर, अमेठी, बहराइच, बस्ती, संतकबीर नगर, खीरी, रायबरेली, सीतापुर, हरदोई, उन्नाव, वाराणसी, गाजीपुर, मिर्जापुर, बाराबंकी, गोरखपुर, देवरिया, चंदौली तथा भदोही जनपद के स्वीप नोडल अधिकारी ने प्रेजेंटेशन के माध्यम से जनपदों मे चल रही स्वीप गतिविधियों की जानकारी दी।
बैठक में अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी सुश्री निधि श्रीवास्तव, संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्री विनय पाठक, विशेष कार्याधिकारी श्री आलोक कुमार एवं श्री संजय सिंह तथा सांख्यकीय अधिकारी श्री टी.पी. गुप्ता उपस्थित रहें।

Comments

Popular posts from this blog

मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ का प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव सहकारिता भवन में सकुशल संपन्न हुआ

 संवाददाता लखनऊ l मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० (सम्बद्ध उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारी महासंघ) का  प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव आज  सहकारिता भवन सभागार , लखनऊ में सकुशल संपन्न हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  केंद्रीय राज्य मंत्री ( कौशल किशोर) आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय भारत सरकार रहे। विशिष्ठ अतिथि के रूप में उ०प्र० राज्य कर्मचारी महासंघ एवं उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  एस०पी० सिंह,  कमलेश मिश्रा,  नरेन्द्र प्रताप सिंह, उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  राम विरज रावत, पूर्णिमा सिन्हा उर्फ़ पूनम सिन्हा (फाउंडर ऑफ़ परिषद् ऑफ़ सहकारिता बैंक), प्रांतीय संरक्षक, मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० की  प्रभा सिंह उपस्थित रहे। इस अवसर पर उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के  दिवाकर सिंह, प्रांतीय अध्यक्ष एवं कनौजिया विनोद बुद्धिराम, कार्यकारी प्रांतीय अध्यक्ष,  चुनाव अधिकारियों की देख-रेख में चुनाव सकुशल संपन्न कराया गया । इस चुनाव में “स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग” क

सरकार ने शीघ्र मांगे नहीं मानी तो पेंशनर स्थगित आंदोलन पुनः चालू करेंगे

 ...   संवाददाता। लखनऊ  ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति और स्टेफको के संयुक्त तत्वाधान में आज एक सभा आवश्यक वस्तु निगम के गोखले मार्ग स्थित मुख्यालय में प्रांतीय महामंत्री राजशेखर नागर की अध्यक्षता में संपन्न हुई। जिसमें पिछले दिनों दिल्ली के रामलीला मैदान में पेंशनरों की रैली और जंतर मंतर पर अनशन के दौरान श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव द्वारा समिति के राष्ट्रीय नेताओं को बुलाकर वार्ता करने एवं आश्वासन देने के बाद आंदोलन स्थगित रखने की जानकारी दी गई।सभा में वक्ताओं ने कहा कि हमें अब सरकार के कोरे आश्वासनों पर विश्वास नहीं करना चाहिए और अगर सरकार शीघ्र ही हमारी मांगे नहीं मानती है तो स्थगित आंदोलन को पुनः और बड़े स्तर पर जारी करना चाहिए।तभी सरकार कोई ठोस कार्रवाई करेगी।समिति के राष्ट्रीय सचिव राजीव भटनागर ने बताया कि श्रम सचिव के साथ शीघ्र एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित करने का प्रयास हो रहा है जिसमें न्यूनतम पेंशन बढ़ाने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाएगा।अनेक वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों द्वारा भी समिति के नेताओं से वार्ता कर उनकी मांगों का समर

पेंशनरों ने मुख्यमंत्री से पेंशन बढ़ाने और बकाया एरियर्स के भुगतान कराने की माँग की

 लखनऊ/संवाददाता   10 जुलाई। ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति के महामंत्री राज शेखर नागर के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के  जनता  दर्शन  में   ईपीएस-95  पेंशनरों की   न्यूनतम पेंशन बढ़वाने ,फ्री मेडिकल सुविधा दिलवाने की माँग की। इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश  के अधिकांश निगमों में छठा  वेतनमान का  एरियर का भुगतान नही हुआ है जबकि  पेंशनरों को बहुत कम पेंशन मिलने से आर्थिक बदहाली झेल  रहे हैं।  इसलिए  मुख्यमंत्री से सभी निगमों के  पेंशनरों  को छठे वेतनमान के बकाया एरियर्स का  भुगतान करने के आदेश निर्गत करने की भी माँग की गई। आवश्यक वस्तु निगम में पेंशनरों की  महासमिति की  बैठक मे  निर्णय लिया गया कि  यदि  बकाया एरियर्स का भुगतान शीघ्र नहीं किया गया तो निगम के सेवानिवृत्त कर्मी   अनशन पर बैठेंगे।       महासमिति की बैठक में हबीब खान, राजीव  भटनागर, पी के  श्रीवास्तव, फ्रेडरिक क्रूज,एन सी सक्सेना,राजीव पांडे, सतीश श्रीवास्तव  पीताम्बर भट्ट उपस्थिति रहे।  राजीव भटनागर  मुख्य समन्वयक  उत्तर प्रदेश।