Skip to main content

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आज प्रातः लखनऊ में लगभग बनकर तैयार रिंग रोड के विकास कार्य का निरीक्षण किया

-उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक, महानगर अध्यक्ष आनंद द्विवेदी, महापौर सुषमा खर्कवाल, एमएलसी डॉक्टर महेंद्र सिंह, मुकेश शर्मा मुख्य रूप से उपस्थित रहे।

संवाददाता। लखनऊ
निरीक्षण के दौरान मीडिया को संबोधित करते हुए राजनाथ सिंह ने कहा कि 2014 में जब मैं लखनऊ का सांसद बना था तो मैंने फैसला किया था की लखनऊ में ट्रैफिक जाम की समस्या बहुत विकट समस्या है और उससे निजात दिलाने के लिए लखनऊ शहर के चारों तरफ आठ लेन की 104 किलोमीटर रोड बननी चाहिए। और आज मुझे देखकर अत्यंत खुशी हो रही है कि फरवरी अंत तक 104 किलोमीटर रिंग रोड का कार्य पूरा होगा जिसमें चार लाइन जाने के लिए और चार लेन वापसी के लिए बनकर तैयार होगी और मार्च में इसका उद्घाटन भी किया जाएगा यह मेरा ड्रीम प्रोजेक्ट रहा है और यह पूरा होते देख कर मुझे बहुत खुशी हो रही है । इसके उद्घाटन के बाद आप देखेंगे कि लखनऊ शहर की ट्रैफिक समस्या को काफी हद तक जाम से निदान मिलेगा। लखनऊ में अभी तक जो भी डेवलपमेंट हुआ है मैं अभी उससे पूरी तरह से संतुष्ट नहीं हूं। बहुत सारी ऐसी परियोजनाएं अभी स्वीकृत पड़ी है जिसमें काम होना अभी शेष है अभी समय में जब वह सभी काम आरंभ होंगे तो लखनऊ भारत क्या पूरे विश्व में टॉप 3 शहर की रैंकिंग में लखनऊ जाना जाएगा।

राहुल गांधी के लखनऊ आने के सवाल पर उन्होंने जवाब दिया कि लखनऊ जो भी है उनका स्वागत है अदब और तहजीब की पुरानी परंपरा है। इंडी गठबंधन में फूट के सवाल पर जवाब देते हुए कहा कि ईंडी गठबंधन अब पूरी तरह बिखर चुका है और जनता ईंडी गठबंधन को लेकर बहुत निराशा है और अगले लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश में 80 से कितने सीटे मिलने के अनुमान पर उन्होंने जवाब दिया कि इस समय पूरे देश में मोदी जी के प्रति आम जनता का गहरा विश्वास है लोग मानते हैं कि देश को यदि कोई विकसित देश बना सकता है तो भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ही कर सकते हैं। ऐसा सभी का विश्वास है और अपने भारत का मस्तक अंतरराष्ट्रीय जगत में ऊंचा करने का काम यदि किसी ने किया है तो वह मोदी जी ने ही किया हैं। उत्तर प्रदेश में योगी जी के नेतृत्व में तेजी से विकास कार्य हो रहे हैं और उनके नेतृत्व में उत्तर प्रदेश में 80 की पूरी 80 सीट हम जीतेंगे।

104 किलोमीटर लंबी आउटर रिंग रोड का शिलान्यास 2016 में तत्कालीन गृहमंत्री के रूप में राजनाथ सिंह और सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री केंद्र सरकार नितिन गडकरी द्वारा किया गया था। लखनऊ आउटर रिंग रोड का निर्माण पांच पैकेजों में किया गया है जिसमें सुल्तानपुर से बेहटा गांव तक 31.745 किलोमीटर का निर्माण 1062 करोड़ की लागत से पूर्ण हो चुका है।
सेकंड पैकेज में बेटा गांव से सीतापुर रोड तक 32.895 किलोमीटर का निर्माण 981 करोड़ की लागत से किया जा रहा है जिसमें भी लगभग 96% कर पूरा हो चुका है। शेष कार्यों में काकोरी रेलवे ओवरब्रिज की पहुंच मार्ग का कार्य सीतापुर रोड फ्लाईओवर पर पहुंच मार्ग का कार्य और लखनऊ आगरा एक्सप्रेसवे फ्लाईओवर पर पहुंच मार्ग का कार्य फरवरी अंत तक पूरा किए जाने के लिए तीव्र गति से कार्य चल रहा है।

सीतापुर रोड से कुर्सी रोड तक 14.618 किलोमीटर का निर्माण 292.07 करोड़ की लागत से पूरा हो चुका है कुर्सी रोड से अयोध्या रोड तक 14.707 किलोमीटर का निर्माण 388.31 करोड़ की लागत से किया गया है जिसको मार्च 2019 में पूरा होने के साथ ही उद्घाटन भी किया जा चुका है।
अयोध्या रोड से सुल्तानपुर रोड तक 11.362 किलोमीटर का निर्माण कर उत्तर प्रदेश लोक निर्माण विभाग द्वारा किया गया था।

Comments

Popular posts from this blog

मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ का प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव सहकारिता भवन में सकुशल संपन्न हुआ

 संवाददाता लखनऊ l मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० (सम्बद्ध उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारी महासंघ) का  प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव आज  सहकारिता भवन सभागार , लखनऊ में सकुशल संपन्न हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  केंद्रीय राज्य मंत्री ( कौशल किशोर) आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय भारत सरकार रहे। विशिष्ठ अतिथि के रूप में उ०प्र० राज्य कर्मचारी महासंघ एवं उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  एस०पी० सिंह,  कमलेश मिश्रा,  नरेन्द्र प्रताप सिंह, उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  राम विरज रावत, पूर्णिमा सिन्हा उर्फ़ पूनम सिन्हा (फाउंडर ऑफ़ परिषद् ऑफ़ सहकारिता बैंक), प्रांतीय संरक्षक, मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० की  प्रभा सिंह उपस्थित रहे। इस अवसर पर उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के  दिवाकर सिंह, प्रांतीय अध्यक्ष एवं कनौजिया विनोद बुद्धिराम, कार्यकारी प्रांतीय अध्यक्ष,  चुनाव अधिकारियों की देख-रेख में चुनाव सकुशल संपन्न कराया गया । इस चुनाव में “स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग” क

सरकार ने शीघ्र मांगे नहीं मानी तो पेंशनर स्थगित आंदोलन पुनः चालू करेंगे

 ...   संवाददाता। लखनऊ  ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति और स्टेफको के संयुक्त तत्वाधान में आज एक सभा आवश्यक वस्तु निगम के गोखले मार्ग स्थित मुख्यालय में प्रांतीय महामंत्री राजशेखर नागर की अध्यक्षता में संपन्न हुई। जिसमें पिछले दिनों दिल्ली के रामलीला मैदान में पेंशनरों की रैली और जंतर मंतर पर अनशन के दौरान श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव द्वारा समिति के राष्ट्रीय नेताओं को बुलाकर वार्ता करने एवं आश्वासन देने के बाद आंदोलन स्थगित रखने की जानकारी दी गई।सभा में वक्ताओं ने कहा कि हमें अब सरकार के कोरे आश्वासनों पर विश्वास नहीं करना चाहिए और अगर सरकार शीघ्र ही हमारी मांगे नहीं मानती है तो स्थगित आंदोलन को पुनः और बड़े स्तर पर जारी करना चाहिए।तभी सरकार कोई ठोस कार्रवाई करेगी।समिति के राष्ट्रीय सचिव राजीव भटनागर ने बताया कि श्रम सचिव के साथ शीघ्र एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित करने का प्रयास हो रहा है जिसमें न्यूनतम पेंशन बढ़ाने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाएगा।अनेक वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों द्वारा भी समिति के नेताओं से वार्ता कर उनकी मांगों का समर

पेंशनरों ने मुख्यमंत्री से पेंशन बढ़ाने और बकाया एरियर्स के भुगतान कराने की माँग की

 लखनऊ/संवाददाता   10 जुलाई। ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति के महामंत्री राज शेखर नागर के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के  जनता  दर्शन  में   ईपीएस-95  पेंशनरों की   न्यूनतम पेंशन बढ़वाने ,फ्री मेडिकल सुविधा दिलवाने की माँग की। इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश  के अधिकांश निगमों में छठा  वेतनमान का  एरियर का भुगतान नही हुआ है जबकि  पेंशनरों को बहुत कम पेंशन मिलने से आर्थिक बदहाली झेल  रहे हैं।  इसलिए  मुख्यमंत्री से सभी निगमों के  पेंशनरों  को छठे वेतनमान के बकाया एरियर्स का  भुगतान करने के आदेश निर्गत करने की भी माँग की गई। आवश्यक वस्तु निगम में पेंशनरों की  महासमिति की  बैठक मे  निर्णय लिया गया कि  यदि  बकाया एरियर्स का भुगतान शीघ्र नहीं किया गया तो निगम के सेवानिवृत्त कर्मी   अनशन पर बैठेंगे।       महासमिति की बैठक में हबीब खान, राजीव  भटनागर, पी के  श्रीवास्तव, फ्रेडरिक क्रूज,एन सी सक्सेना,राजीव पांडे, सतीश श्रीवास्तव  पीताम्बर भट्ट उपस्थिति रहे।  राजीव भटनागर  मुख्य समन्वयक  उत्तर प्रदेश।