Skip to main content
...
संवाददाता। लखनऊ 
रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आलमबाग थाने चौराहे पर स्थित रेलवे कर्मचारी यूनियन पूर्व अध्यक्ष वरिष्ठ नेता टी.एन बाजपेई की प्रतिमा पर श्रद्धा सुमन अर्पित किए। उनकी स्मृति में चौराहे का नाम "टी एन वाजपेई चौराहा" किए जाने पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि स्वर्गीय टीएन वाजपेई जी के बारे में मैंने बहुत सुना है, आदरणीय अटल बिहारी वाजपेई जी जब प्रधानमंत्री थे तो 1999 मे शपथ लेने के बाद जब लखनऊ आए तो टीएन वाजपेई जी की प्रतिमा का अनावरण करने के लिए आए थे और मैं उसे समय शायद मुख्यमंत्री था और उस कार्यक्रम में मुझे भी भाग लेने का अवसर प्राप्त हुआ था। मैं महापौर सुषमा खर्कवाल जी को भी धन्यवाद देना चाहूंगा कि उन्होंने इस चौराहे का नाम स्वर्गीय टीएन वाजपेई जी के नाम पर रखे जाने के संबंध में मुझसे पूछा। शिवपाल मिश्रा जी ने भी मुझसे चर्चा की और हमने क्षण भर भी बिना विलंब किया अंतरमन से उसकी स्वीकृति तुरंत दे दी । वह अटल जी के अभिन्न मित्रों में से थे और मित्र ही नहीं अटल जी के मन में भी उनके प्रति सम्मान का भाव था । वह बहुत साधारण परिवार से थे लेकिन जुल्म और अत्याचार के खिलाफ जंग छेड़ने की कूबत अगर किसी के अंदर थी तो वह पीएम वाजपेई जी के अंदर थी। 1945 में वह लखनऊ आ गए थे और किसी कारखाने में कार्य करते थे, मुझे इस बात की भी जानकारी दी गई कि वह पहले कम्युनिस्ट पार्टी के प्राथमिक सदस्य थे लेकिन जब उन्होंने देखा कि वामपंथी विचारधारा के लोग अंग्रेजों के खिलाफ जो जंग हो रही थी उसमें भाग लेने से मना किया तो वामपंथी विचारधारा को छोड़कर दूसरी पार्टी ज्वाइन की, कांग्रेस सोशलिस्ट पार्टी ज्वाइन की। वह स्वभाव और व्यावहारिकता से समाजवादी थे।उन्होंने अलग यूनियन भी मनाई और 1960 की हड़ताल में भी भाग लिया और हड़ताल में भाग लेने के कारण उन्हें बर्खास्त भी किया गया था । वह 12/ 14 वर्ष बाहर रहे लेकिन तब भी दृढ़ इच्छा शक्ति के साथ कार्य करते रहे और बाद में समझौते के बाद उन्हें पुनः सेवा में लिया गया। 1979 में उन्होंने अपनी सेवा से त्यागपत्र दिया। मैं मानता हूं कि भारतीय रेल जैसे संगठित क्षेत्र के कर्मचारी का नेतृत्व वह जिस तरीके और सालीके से करते थे वह बेजोड़ माना जाता था। उन्होंने सिर्फ रेलवे कर्मचारियों के लिए ही कार्य नहीं किया बल्कि अपने जीवन में और संगठन, क्षेत्रों के लिए भी वाजपेई जी ने भरपूर कार्य किया । उन्होंने अलग से यूनियन बनाई नॉर्दर्न रेलवे मेंस यूनियन , जो आज भी है। वाजपेई जी उसके बहुत ही प्रमुख और शिखर के नेता थे। जो हरदोई में रहते थे लेकिन अधिकतर समय उन्होंने लखनऊ में बिताया। मेरा मानना है कि कुछ लोग सिर्फ अपने लिए जीते हैं लेकिन कुछ लोग अपनी पूरी जिंदगी समाज के लिए ही जीते हैं और स्वर्गीय टीएन वाजपेई जी ऐसे ही कुछ लोगों में से हैं । सारी जिंदगी उन्होंने कर्मचारियों के लिए ,मजदूरों के लिए लगा दी ।इस समय हमारी सरकार ने भी समाज के अंतिम छोर पर बैठे पिछड़े वर्ग के लोगों के लिए और वंचित लोगों के लिए बहुत सारी योजनाएं सरकार ने लागू किया है मैं पुनः उन योजनाओं की चर्चा यहां नहीं करूंगा। आपकी भी समस्याओं के बारे में शिव गोपाल मिश्रा जी हमसे चर्चा करते रहते हैं । समस्याएं हैं और उनका समाधान अवश्य निकलेगा और मुझे भी जो मदद होगी मैं अवश्य करूंगा। इस क्षेत्र के विकास के लिए भी बहुत कार्य हुए हैं अवध चौराहे पर अंडरपास के कार्य का शिलान्यास भी कर दिया है और आलमबाग में पांच वार्डो में बाबू कुंज बिहारी वार्ड ,ओमकार वार्ड गीतांजलि वार्ड, गुरु गोविंद सिंह वार्ड और गुरु नानक वार्ड में निशुल्क सीवर हाउस कनेक्शन कार्य का शुभारंभ भी कल उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक जी द्वारा होगा।

 रक्षा मंत्री ने यह भी कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर हमारे देश का कद बहुत ऊंचा हुआ है आज अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारत बोलता है तो पूरी दुनिया कान खोलकर सुनती है कि भारत क्या बोल रहा है। यही हमारा भारत दुनिया के देशों में अर्थव्यवस्था आकर पर 11 स्थान पर था आज दुनिया के पांचवें स्थान पर आकर खड़ा हो गया है, और बड़े-बड़े अर्थशास्त्री और हायली रिप्यूट फाइनेंशियल फॉर्म्स कह रहे हैं कि वह दिन दूर नहीं की 2027 होते-होते इकोनॉमी की साइज अर्थव्यवस्था के आकार के मामले में दुनिया की टॉप थ्री कंट्रीज में आकर खड़ा होगा। और वह दिन भी दूर नहीं है जब आर्थिक दृष्टि से भी सुपर पावर बनकर खड़ा होगा।
 रूस और यूक्रेन की लड़ाई चल रही है 2 वर्षों से पहले जब युद्ध आरंभ हुआ था यूक्रेन में वहां रहने वाले 25/ 26 हजार बच्चे वहां के मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेज में पढ़ाई कर रहे थे प्रधानमंत्री जी की अपील पर 4 घंटे के लिए युद्ध रोक कर हमारे देश के छात्रों को वापस सुरक्षित भेजने का कार्य हुआ।
प्रधानमंत्री जी के आवाहन पर हमारा योग भी आज पूरे विश्व में पहचान बन चुका है।
अन्य विषयों पर ज्यादा चर्चा ना करते हुए आज में स्वर्गीय टीएन वाजपेई जी को मैं श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं 

उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने कहा कि रेल परिवार को इस बात का भरोसा दिलाता हूं कि आप सबके हितों के लिए और कार्यों के लिए राज्य सरकार आपके साथ खड़ी है। शिव गोपाल मिश्रा जी सदैव संघर्षों के लिए आगे बढ़कर कार्य करते हैं और जो भी संभव होगा वह किया जाएगा।
लखनऊ में अनेक असंभव कार्यों को भी रक्षा मंत्री जी ने पूरा करके दिखाया है। अब हमारी बारी है कि रक्षा मंत्री जी के साथ खड़ा होकर अपने सांसद को विपक्षियों की जमानत जब्त कर कर बड़ी ऐतिहासिक जीत के साथ जीताने का कार्य करना है।

मीडिया प्रभारी प्रवीण गर्ग ने बताया कि कार्यक्रम में रेलवे कर्मचारी यूनियन की ओर से मवैया स्टेशन का नाम बदलकर टीएन बाजपेई के नाम पर करने का प्रस्ताव भी रखा गया।
कार्यक्रम को महापौर सुषमा खर्कवाल और रेलवे कर्मचारी यूनियन के पदाधिकारी ने भी संबोधित किया।
कार्यक्रम में उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक, महानगर अध्यक्ष आनंद द्विवेदी महापौर सुषमा खर्कवाल, एमएलसी मुकेश शर्मा, रामचंद्र प्रधान और क्षेत्रीय पार्षद गढ़ व कार्यकर्ता के साथ बड़ी संख्या में रेलवे कर्मचारी उपस्थित रहे।

Comments

Popular posts from this blog

मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ का प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव सहकारिता भवन में सकुशल संपन्न हुआ

 संवाददाता लखनऊ l मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० (सम्बद्ध उत्तर प्रदेश राज्य कर्मचारी महासंघ) का  प्रांतीय द्विवार्षिक अधिवेशन एवं चुनाव आज  सहकारिता भवन सभागार , लखनऊ में सकुशल संपन्न हुआ। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि  केंद्रीय राज्य मंत्री ( कौशल किशोर) आवासन एवं शहरी कार्य मंत्रालय भारत सरकार रहे। विशिष्ठ अतिथि के रूप में उ०प्र० राज्य कर्मचारी महासंघ एवं उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  एस०पी० सिंह,  कमलेश मिश्रा,  नरेन्द्र प्रताप सिंह, उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के प्रांतीय संरक्षक  राम विरज रावत, पूर्णिमा सिन्हा उर्फ़ पूनम सिन्हा (फाउंडर ऑफ़ परिषद् ऑफ़ सहकारिता बैंक), प्रांतीय संरक्षक, मातृ शिशु कल्याण महिला कर्मचारी संघ, उ०प्र० की  प्रभा सिंह उपस्थित रहे। इस अवसर पर उ०प्र० फेडरेशन ऑफ़ मिनिस्ट्रियल सर्विसेज एसोसिएशन के  दिवाकर सिंह, प्रांतीय अध्यक्ष एवं कनौजिया विनोद बुद्धिराम, कार्यकारी प्रांतीय अध्यक्ष,  चुनाव अधिकारियों की देख-रेख में चुनाव सकुशल संपन्न कराया गया । इस चुनाव में “स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग” क

सरकार ने शीघ्र मांगे नहीं मानी तो पेंशनर स्थगित आंदोलन पुनः चालू करेंगे

 ...   संवाददाता। लखनऊ  ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति और स्टेफको के संयुक्त तत्वाधान में आज एक सभा आवश्यक वस्तु निगम के गोखले मार्ग स्थित मुख्यालय में प्रांतीय महामंत्री राजशेखर नागर की अध्यक्षता में संपन्न हुई। जिसमें पिछले दिनों दिल्ली के रामलीला मैदान में पेंशनरों की रैली और जंतर मंतर पर अनशन के दौरान श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव द्वारा समिति के राष्ट्रीय नेताओं को बुलाकर वार्ता करने एवं आश्वासन देने के बाद आंदोलन स्थगित रखने की जानकारी दी गई।सभा में वक्ताओं ने कहा कि हमें अब सरकार के कोरे आश्वासनों पर विश्वास नहीं करना चाहिए और अगर सरकार शीघ्र ही हमारी मांगे नहीं मानती है तो स्थगित आंदोलन को पुनः और बड़े स्तर पर जारी करना चाहिए।तभी सरकार कोई ठोस कार्रवाई करेगी।समिति के राष्ट्रीय सचिव राजीव भटनागर ने बताया कि श्रम सचिव के साथ शीघ्र एक महत्वपूर्ण बैठक आयोजित करने का प्रयास हो रहा है जिसमें न्यूनतम पेंशन बढ़ाने के लिए प्रस्ताव प्रस्तुत किया जाएगा।अनेक वरिष्ठ केंद्रीय मंत्रियों द्वारा भी समिति के नेताओं से वार्ता कर उनकी मांगों का समर

पेंशनरों ने मुख्यमंत्री से पेंशन बढ़ाने और बकाया एरियर्स के भुगतान कराने की माँग की

 लखनऊ/संवाददाता   10 जुलाई। ईपीएस-95 राष्ट्रीय संघर्ष समिति के महामंत्री राज शेखर नागर के नेतृत्व में एक प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के  जनता  दर्शन  में   ईपीएस-95  पेंशनरों की   न्यूनतम पेंशन बढ़वाने ,फ्री मेडिकल सुविधा दिलवाने की माँग की। इसके अतिरिक्त उत्तर प्रदेश  के अधिकांश निगमों में छठा  वेतनमान का  एरियर का भुगतान नही हुआ है जबकि  पेंशनरों को बहुत कम पेंशन मिलने से आर्थिक बदहाली झेल  रहे हैं।  इसलिए  मुख्यमंत्री से सभी निगमों के  पेंशनरों  को छठे वेतनमान के बकाया एरियर्स का  भुगतान करने के आदेश निर्गत करने की भी माँग की गई। आवश्यक वस्तु निगम में पेंशनरों की  महासमिति की  बैठक मे  निर्णय लिया गया कि  यदि  बकाया एरियर्स का भुगतान शीघ्र नहीं किया गया तो निगम के सेवानिवृत्त कर्मी   अनशन पर बैठेंगे।       महासमिति की बैठक में हबीब खान, राजीव  भटनागर, पी के  श्रीवास्तव, फ्रेडरिक क्रूज,एन सी सक्सेना,राजीव पांडे, सतीश श्रीवास्तव  पीताम्बर भट्ट उपस्थिति रहे।  राजीव भटनागर  मुख्य समन्वयक  उत्तर प्रदेश।